दुर्ग। ओमिक्रोन वैरिएंट के खतरे के बीच दुर्ग जिले में विदेश से 66 लोग लौटे हैं। इनमें से आठ लोगों से संपर्क नहीं हो पा रहा है। इससे प्रशासन की परेशानी बढ़ गई है। इनमें से छह लोगों का मोबाइल नंबर नहीं लग रहा है।

वहीं दो लोगों को मोबाइल नंबर अंतरराष्ट्रीय बताया जा रहा है। शेष लोगों को प्रशासन ने उनके घरों में होम आइसोलेट कर दिया है। वहीं परिवार के अन्य सदस्यों से सावधानी बरतने कहा गया है।

कोरोना के नए ओमिक्रोन वैरिएंट के खतरे को लेकर जिला स्वास्थ्य विभाग सतर्क हो गया है। जिले में पिछले छह दिनों में विदेश से करीब 66 लोग लौटे हैं। जिसमें कनाडा से तीन,दुबई से 11,आयरलैंड से एक,मालदीप से दो,कतर से दो, केएसए से दो,सिंगापुर से पांच, स्वीडन से एक, यूएई से तीन, यूके से चार, यूएसए से 14, वेस्ट आफ्रीका से एक, शिकागों से एक, सायप्रस से चार, कुवैत से एक और नीदरलैंड से दो लोग शामिल हैं।

स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार इनमें से 58 लोगों को होमआइसोलेट कर दिया गया है। इनके परिवार के सदस्यों को इनके संपर्क में नहीं आने कहा गया है साथ ही मास्क, सैनिटाइजर व कोरोना से बचाव के अन्य नियमों का पालन भी करने कहा गया है।

वहीं आठ लोगों से किसी तरह का संपर्क नहीं हो पा रहा है। इनमें से छह लोगों का मोबाइल नंबर नहीं लग रहा है वहीं दो लोगों के नंबर अंतरराष्ट्रीय होना बताया जा रहा है।

--

कराया जाएगा कोरोना जांच

विदेश से लौटने वाले सभी लोगों की कोरोना जांच कराई जाएगी। फिलहाल इन सभी को होम आइसोलेट किया गया है। साथ ही किसी तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्या होने पर जिला अस्पताल अथवा घर के पास नजदीकी अस्पताल में तत्काल संपर्क करने कहा गया है।

फिलहाल किसी ने भी किसी तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्या आने की शिकायत नहीं की है। विदेश लौटने वाले लोगों में कुछ लोगों से संपर्क नहीं हो पा रहा है। अधिकारी लगातार इनके संबंध में पतासाजी का प्रयास कर रहे हैं।

-डा. गंभीर सिंह ठाकुर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी दुर्ग

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local