दुर्ग। हेमचंद यादव विश्वविद्यालय दुर्ग से संबद्ध महाविद्यालयों में प्रवेश का दौर जारी है। विश्वविद्यालय से संबद्ध महाविद्यालयों की 23 अगस्त तक की स्थिति में 60 प्रतिशत सीटें भर चुकी है।

महाविद्यालयों में स्नातक और स्नातकोत्तर दोनों ही स्तर के पाठ्यक्रमों में प्रवेश दिया जा रहा है। विश्वविद्यालय परिक्षेत्र के अंतर्गत आने वाले राजनांदगांव, बालोद, बेमेतरा, दुर्ग और कबीरधाम जिले की अग्रणी महाविद्यालयों में अधिक प्रवेश हो रहा है।

विश्वविद्यालय में प्रवेश की प्रक्रिया चल रही है। अब तक हुए प्रवेश के आंकड़ों पर नजर डाले तो सभी जिलों के अग्रहणी महाविद्यालयों में प्रवेश की गति अधिक है। दूसरी ओर स्नातक स्तर के पाठ्यक्रमों में बीए और बी.काम में अधिक प्रवेश हो रहा है। जबकि बीएससी गणित और बीएससी विज्ञान में प्रवेश कम हो रहा है।

- प्राचार्य और कुलपति की अनुमति से प्रवेश

विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने बताया कि संबद्ध महाविद्यालयों में सीटें रिक्त होने पर प्रवेश दिया जाएगा। इसके लिए संबंधित महाविद्यालय के प्राचार्य की अनुमति लेकर 10 सितंबर तक प्रवेश लिया जा सकता है। तो वहीं 10 सितंबर के बाद और अधिकतम 20 सितंबर तक विश्वविद्यालय की कुलपति से अनुमति लेकर प्रवेश लिया जा सकता है।

- अग्रणी महाविद्यालय में प्रवेश अधिक

हेमचंद यादव विश्वविद्यालय के छात्र कल्याण अधिष्ठाता डा.प्रशांत श्रीवास्तव ने बताया कि सर्वाधिक प्रवेश दुर्ग, राजनांदगांव, बालोद, बेमेतरा, कबीरधाम के अग्रणी महाविद्यालयों में हुआ है। प्राप्त आंकडों के अनुसार बीए, बी.काम प्रथम वर्ष से कम प्रवेश बीएससी प्रथम वर्ष में हुआ है। दुर्ग के अग्रणी महाविद्यालय शासकीय विज्ञान महाविद्यालय में स्नातक में 1360, स्नातकोत्तर में 778 विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है।

राजनांदगांव के दिग्विजय महाविद्यालय में स्नातक स्तर पर 1988, स्नातकोत्तर स्तर पर 590 विद्यार्थियों का नियमित प्रवेश हुआ है। कबीरधाम के अग्रणी महाविद्यालय में स्नातक स्तर पर 1092 और स्नातकोत्तर स्तर पर 614 विद्यार्थियों ने प्रवेश प्रकिया पूर्ण कर ली है।

शासकीय बालोद स्नातकोत्तर महाविद्यालय में स्नातक में 680 और स्नातकोत्तर स्तर पर 289 विद्यार्थी प्रवेशित हैं। शासकीय बेमेतरा महाविद्यालय में स्नातक में 715 और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम में 302 विद्याथियों ने प्रवेश लिया है।

- पूरक परीक्षाओं की प्रक्रिया प्रारंभ

विश्वविद्यालय के परीक्षा उपकुलसचिव डा.राजमणि पटेल ने बताया कि वि द्वारा सत्र 2021-22 की पूरक परीक्षा का आनलाइन रूप से आयोजन सितंबर के द्वितीय सप्ताह में किया जाएगा। जिन विद्यार्थियों को एक प्रायोगिक विषय में पूरक की पात्रता मिली है उनकी प्रायोगिक पूरक परीक्षा सैद्धांतिक पूरक परीक्षा के बाद आयोजित होगी।

वहीं जिन विद्यार्थियों ने अभी तक पूरक परीक्षा के लिए आवेदन नहीं किया है वे विश्वविद्यालय के पोर्टल पर तत्काल आवेदन करें। निर्धारित तिथि तक पूरक परीक्षा के लिए आवेदन न जमा करने वाले विद्यार्थियों को प्रक्रिया में परेशानी हो सकती है।

आनलाइन पोर्टल खुले

ऐसे महाविद्यालय जहां कम प्रवेश हुआ है वहां रिक्तता के आधार पर दाखिले के लिए 24 अगस्त से आनलाइन पोर्टल खोल दिया गया। ताकि वंचित विद्यार्थियों को रिक्तता के आधार पर प्रवेश मिल पाए।

विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने बताया कि पोर्टल 10 सितंबर तक खुला रहेगा। विद्यार्थियों को प्रावीण्यता के आधार पर प्रवेश दिया जाएगा।

--

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close