रोहित देवांगन, दुर्ग । Chhattisgarh Innovative Ideas विज्ञान में रुचि रखने वाले विद्यार्थियों के लिए अच्छी खबर है। इंस्पायर अवार्ड में अब इनोवेटिव आइडिया देने वाले विद्यार्थियों को राष्ट्रपति से मुलाकात कराया जाएगा। यहीं नहीं विदेश यात्रा भी कराई जाएगी। साथ ही 10 हजार रुपये छात्रवृत्ति भी प्रदान की जाएगी। इंस्पायर अवार्ड के लिए ई-एमआइएएस पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन मांगे गए हैं। सरकारी और निजी स्कूलों में कक्षा छठवीं से दसवीं में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के लिए इंस्पायर अवार्ड-मानक योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन ई-एमआइएएस पोर्टल में कर सकते हैं।

प्रोजेक्टर बनाने वाले विद्यार्थियों को अलग से राशि प्रदान की जाएगी। विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने प्रोत्साहन राशि पांच हजार से बढ़ाकर 10 हजार रुपये कर दी है। प्रोत्साहन राशि बढ़ाने का मकसद छात्र-छात्राओं में इस योजना के प्रति दिलचस्पी बढ़ाना है। प्रतिभाओं का जिला के बाद राज्य स्तर पर चयन किया जाएगा।

जिन छात्रों के विज्ञान मॉडल राज्य स्तर पर सबसे अच्छे रहेंगे उन्हें राष्ट्र स्तरीय मंच पर प्रतिभा दिखाने का मौका मिलेगा। राष्ट्रीय स्तर के लिए चयनित होने पर छात्र-छात्राओं को अलग से प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। सृजनात्मक सोच वाले प्रतिभावान विद्यार्थियों को राष्ट्र स्तरीय मंच मिलेगा। इस योजना के तहत छात्र-छात्राएं विज्ञान में नवाचार के गुर सीखेंगे।

राष्ट्रपति के हाथों होंगे पुरस्कृत

इंस्पायर अवार्ड के तहत जिला स्तर पर 10 हजार व राज्य स्तर पर एक हजार विचारों का चयन किया जाएगा। राष्ट्रीय स्तर पर चयनित मॉडल को राष्ट्रपति भवन में आयोजित प्रवर्तन उत्सव में प्रदर्शित किया जाएगा। मॉडल पेश करने वाले को राष्ट्रपति के हाथों पुरस्कृत किया जाएगा। जो बाल वैज्ञानिक राष्ट्रीय स्तर पर चयनित होंगे, उन्हें नकद पुरस्कार दिया जाएगा । जबकि चुनिंदा बच्चे विदेश यात्रा करेंगे।

इंस्पायर अवार्ड में मिलने वाली छात्रवृत्ति के लिए छात्र का बैंक खाता जरूरी है। इस वर्ष इंस्पायर अवार्ड पोर्टल पर एक महत्वपूर्ण परिवर्तन किया गया है। स्कूल अथॉरिटी ऑप्शन में स्कूल लॉग इन करने के बाद स्कूल का यू-डाइस कोड अपडेट करना अनिवार्य है। बिना यू-डाइस अपडेट किए पोर्टल पर नॉमिनेशन संबंधित काम संभव नहीं होगा। बीते वर्ष इंस्पायर अवार्ड में पूर्व माध्यमिक शाला के 769, हाई स्कूल के 398, निजी स्कूल के 391 और अनुदान प्राप्त स्कूल के 27 बच्चों ने अपना पंजीयन कराया था।

- नॉमिनेशन के लिए बच्चों को लगातार प्रोत्साहित किया जा रहा है। बीईओ व प्राचार्यों को इसके लिए निर्देशित किया गया है। - प्रवास सिंह बघेल, डीईओ, दुर्ग

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Raksha Bandhan 2020
Raksha Bandhan 2020