दुर्ग (नईदुनिया प्रतिनिधि)। स्वामी आत्मानंद ने अपने जीवनकाल में रामकथा के विभिन्ना प्रसंगों पर सुंदर व्याख्यान दिए थे। रामायण के चरित्रों की उनकी सुंदर व्याख्या अनेक स्रोतों में बिखरी हैं। इन्हें संकलित करने का महती कार्य किया डा.राजलक्ष्मी वर्मा ने और इसे रामरस पुस्तक का स्वरूप दिया। इस पुस्तक का विमोचन विजयदशमी के अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने भिलाई-3 स्थित कैंप निवास में किया। वेबिनार के माध्यम से हुए इस इस कार्यक्रम के अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामीजी के इस अतुलनीय कार्य को सहेजा जाना बहुत महत्वपूर्ण कार्य है। यह पुस्तक सुधि पाठकों के लिए अत्यंत उपयोगी होगी। उन्होंने संकलन कार्य के लिए डा.राजलक्ष्मी वर्मा को भी बधाई दी एवं शुभकामनाएं व्यक्त की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी मुक्तेश्वरी बघेल, दुर्ग संभाग के आयुक्त टीसी महावर, दुर्ग रेंज के आइजी विवेकानंद सिन्हा, दुर्ग कलेक्टर डा.सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे, दुर्ग एसपी प्रशांत ठाकुर एवं अन्य गणमान्य अतिथि तथा अधिकारी उपस्थित रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस