दुर्ग। जिला चिकित्सालय दुर्ग में स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार किया जाएगा। इस कड़ी में जिला चिकित्सालय में संचालित ओटी में निश्चेतना विशेषज्ञ की पदस्थापना किए जाने का निर्देश दिया गया है।

साथ ही न्यूरोलाजिस्ट की भी नियुक्ति की जाएगी। इनके वेतन भुगतान की व्यवस्था जिला खनिज न्यास से किए जाने का प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है।

बुधवार को कलेक्टर पुष्पेंद्र कुमार मीणा ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी दुर्ग, सिविल सर्जन की संयुक्त बैठक ली। जिसमें मुख्यमंत्री अस्पताल रूपांतरण कोष अंतर्गत 138.57 लाख रुपये की लागत से स्वीकृत कार्यों के संबंध में चर्चा की गई।

जिसमें जर्जर रैम्प का रिनोवेशन, एमसीएच भवन के सिवरेज ड्रेन पाईप लाइन में मरम्मत कार्य कराया जाना है। पुराने मेजर ओटी का रिनोवेशन कराया जाएगा और टीटी ओटी का भी संचालन किया जाएगा। रेडियोलाजी विभाग में वेटिंग एरिया का निर्माण किया जाएगा।

जिससे सोनोग्राफी एवं एक्सरे कराने आने वाले मरीजों की बैठने की समुचित व्यवस्था हो सके। एमसीएच विंग में मरीजों एवं उनके स्वजनों के लिए वेटिंग एरिया का निर्माण कराया जाएगा।

सोनोग्राफी के लिए खरीदी जाएगी मशीन

एमएचसी विंग के गर्भवती महिलाओं को उसी भवन में सोनोग्राफी किए जाने के लिए एक यूएसजी मशीन क्रय किया जाना है। इसके अलावा ब्लड बैंक में प्लेटलेट मुहैया कराने के लिए 40 डिग्री का डीपफ्रीजर खरीदने का भी निर्णय लिया गया। उपकरण क्रय करने का कार्य सिविल सर्जन कार्यालय के माध्यम से किया जाएगा। इसके अलावा 50 बिस्तर सीसीएचबी का निर्माण भी यथाशीघ्र किया जाना है। जिसमें कोरोना महामारी जैसी अन्य कोई बीमारी होने पर अस्पताल परिसर में अलग भवन में उक्त मरीजों का इलाज किया जा सके।

- एमएचसी विंग के गर्भवती महिलाओं को उसी भवन में सोनोग्राफी किए जाने के लिए एक यूएसजी मशीन क्रय किया जाना है

- कोविड व अन्य बीमारी से पीड़ितों का इलाज के लिए बनेगा अलग भवन

-जिला चिकित्सालय दुर्ग में स्वास्थ्य सुविधाओं का होगा विस्तार

---

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close