दुर्ग। नईदुनिया प्रतिनिधि

खरीदी के बाद 20-25 दिन तक मोबाइल फोन ठीक ठाक चला लेकिन इसके बाद फिंगरप्रिंट के सेंसर ने काम करना बंद कर दिया। परिवादी मोबाइल को रिपेयर के नाम पर चार पांच बार सर्विस सेंटर लेकर गया लेकिन अंत में सर्विस सेंटर संचालक ने सुधार के लिए पार्ट्स ना मिलना बताते हुए मोबाइल फोन लौटा दिया। मामले में अनावेदकगणों के खिलाफ पारित आदेश में परिवादी को मोबाइल की कीमत 10 हजार 999 रुपये लौटाने कहा है।

पोटियाकला आबादी पारा दुर्ग निवासी डिकेश्वर कुमार साहू ने जिला उपभोक्ता फोरम दुर्ग में मैनेजर अमेजान सेलर सर्विसेस प्राइवेट लिमिटेड बैंगलोर,मैनेजर सर्विस सेंटर कुलपैड नोट दक्षिण गंगोत्री सुपेला भिलाई और मैनेजर वीडियोकान इंडस्ट्रीज औरंगाबाद के खिलाफ परिवाद पेश किया। परिवादी ने ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी अनावेदक क्रमांक एक से मोबाइल सेट कूलपैड नोट 10 हजार 999 रुपये में खरीदा था। उक्त मोबाइल फोन में खरीदी के बाद से कुछ न कुछ खराबी आती रही है। शुरूआत में मोबाइल सेट खरीदने के पश्चात 20-25 दिन तक ठीक से चला उसके बाद मोबाइल फोन का फ्रिंगरप्रिंट सेंसर काम करना बंद कर दिया। तब परिवादी ने उक्त कंपनी के टोल फ्री नंबर पर बात की। परिवादी उक्त सेट को सर्विस सेंटर अनावेदक क्रमांक-2 के पास ले गया। उसने मोबाइल रिपेयर कर दिया लेकिन कुछ दिनों बाद खराब हो गई। परिवादी पांच-छह बार सर्विस सेंटर का चक्कर काट चुका था। अंत में सर्विस सेंटर ने मोबाइल फोन परिवादी को लौटा दिया और कहा कि मोबाइल फोन में जो पार्ट्स की जरुरत है वह भी कंपनी से नहीं आया है। इसलिए मोबाइल फोन नहीं बना पाएंगे। परिवादी ने इस मामले को लेकर फोरम में वाद दायर किया। मामले में जिला उपभोक्ता फोरम ने अनावेदक क्रमांक-एक,दो व तीन के खिलाफ आदेश पारित कर उक्त मोबाइल की कीमत 10 हजार 999 रुपये परिवादी को लौटाने कहा है। परिवादी को मोबाइल मांगने का शिपिंग चार्ज 40 रुपये तीनों अनावेदक को संयुक्त अथवा पृथक-पृथक रूप से अदा करने कहा है। मानसिक क्षतिपूर्ति के रूप में दस हजार व वाद व्यय के रूप में दो हजार रुपये का भुगतान भी अलग से करना होगा।