दुर्ग। जनवरी का आधा महीना बीतने को आया है और दुर्ग जिले में शहरी क्षेत्र के 333 राशन दुकानों में अब तक राशन का भंडारण नहीं हो पाया है। इससे राशन दुकान संचालक और हितग्राही परेशान हैं।

दरअसल बकाया भुगतान को लेकर परिवहनकर्ता ने राशन का भंडारण करने से हाथ खींच लिया है। स्थिति को देखते हुए प्रशासन द्वारा अन्य परिवहनकर्ता से राशन भंडारण की व्यवस्था बनाई गई है।

जिले की सरकारी राशन दुकानों में राशन वितरण की व्यवस्था एक बार फिर गड़बड़ा गई है। खाद्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के शहरी क्षेत्र के 333 राशन दुकानों में अब तक राशन का भंडारण नहीं हो पाया है। इसके पीछे वजह परिवहनकर्ता द्वारा राशन के परिवहन से हाथ खींचना बताया जा रहा है।

दरअसल राशन दुकानों में राशन भंडारण व परिवहन को लेकर जुलाई महीने से नई व्यवस्था बनाई गई है। जिसके तहत परिवहनकर्ता को गोदाम से राशन दुकान की दूरी के आधार पर परिवहन भाड़ा का भुगतान किया जाना है। इसके लिए नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा टेंडर निकाला गया था।

जिस परिवहनकर्ता ने ठेका लिया है उसने इस महीने राशन परिवहन का काम बंद कर दिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार परिवहनकर्ता को दुकानों जुलाई महीने से अब तक राशन परिवहन का भुगतान नहीं किया गया है। जिसकी राशि करीब चार करोड़ रुपये के आसपास बताई जा रही है।

समय पर राशन का भंडारण नहीं होने से राशन दुकान संचालकों के साथ-साथ हितग्राही भी परेशान है। स्थिति को ध्यान में रखते हुए विभाग द्वारा दूसरे परिवहन कर्ता से दुकानों तक राशन का परिवहन व भंडारण कराने की व्यवस्था बनाई गई है। लेकिन उक्त परिवहनकर्ता के पास गाड़ियों की संख्या कम है। इस कारण जल्द से जल्द भंडारण को लेकर भी दिक्कत हो रही है।

---

10 तारीख तक रहती है भीड़

आम तौर पर सरकारी राशन दुकानों में राशन का भंडारण महीने की पहली व दूसरी तारीख तक कर दिया जाता है। वहीं अधिकांश हितग्राही 10 तारीख तक दुकानों से राशन का उठाव कर लेते हैं। लेकिन इस बार अब तक राशन का भंडारण ही नहीं हो पाया है।

परिवहनकर्ता द्वारा भंडारण से इंकार किए जाने के बाद अधिकारियों ने व्यवस्था बनाने की दिशा में समय पर ध्यान नहीं दिया। इस कारण जनवरी का आधा महीना निकल गया। वहीं जिन दुकानदारों के पास चावल का पुराना स्टाक बचा हुआ था उनके द्वारा हितग्राहियों को वितरण किया गया।

--

जिस परिवहनकर्ता को सरकारी राशन दुकानों में राशन का भंडारण का ठेका दिया गया था उसके द्वारा राशन परिवहन करने से मना कर दिया गया है। इस कारण जिले के शहरी क्षेत्र की राशन दुकानों में राशन का भंडारण नहीं हो पाया है। स्थिति को देखते हुए दूसरे परिवहनकर्ता से राशन का भंडारण करवाया जा रहा है।

-सीपी दीपांकर, खाद्य नियंत्रक दुर्ग

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local