दुर्ग। बारिश थमने के बाद शिवनाथ नदी का जलस्तर धीरे-धीरे कम हो रहा है। लेकिन नदी स्थित महमरा एनीकट के ऊपर से अभी भी पांच फीट पानी बह रहा है वहां पुलगांव के पुराने पुल से करीब चार फीट नीचे पानी बह रहा है।

सोमवार से बुधवार सुबह तक जिले में रूर-रूककर हुई निरंतर बारिश के बाद शिवनाथ नदी की जलस्तर बढ़ गया था। नदी में राजनांदगांव जिले के मोंगरा बैराज से भी करीब 20 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया था। इस कारण शिवनाथ नदी का जलस्तर काफी तेजी से बढ़ गया था और नदी स्थित महमरा एनीकट के ऊपर करीब सात फीट पानी बह रहा था वहीं दुर्ग-अंजोरा मार्ग पर स्थित पुराने पुल से पानी एक फीट नीचे बह रहा था। बुधवार सुबह बारिश थमने के बाद शिवनाथ पर बाढ़ का खतरा टल गया था। हालांकि बुधवार-गुरुवार की दरम्यानी रात जिले में बारिश हुई लेकिन वर्षा की रफ्तार वैसी नहीं थी कि नदी का जलस्तर फिर से बढ़ने लगे। प्राप्त जानकारी के अनुसार गुरुवार को भी जिले में करीब 25 मिमी बारिश हुई। बारिश के बाद दुर्ग के अधिकतम और न्यूनतम तापमान में गिरावट आई है। अधिकतम तापमान 30.8 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 21.4 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। दोनों तापमान सामान्य से क्रमश एक डिग्री सेल्सिसय और तीन डिग्री सेल्सियस कम है। मौसम विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार शुक्रवार को भी आसमान पर बादल छाया रहेगा और कहीं-कहीं वर्षा होने की संभावना बनी हुई है।

दुर्ग ब्लाक का ग्राम झेंझरी शिवनाथ नदी के किनारे बसा हुआ है। नदी में बाढ़ आने की सूरत में सबसे पहले यह गांव प्रभावित होता है। बुधवार को बारिश थमने के बाद झेंझरी के ग्रामीणों ने राहत की सांस ली वहीं बाढ़ से बचाव के लिए बनाए गए नाव को भी एकत्रित कर रखा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local