दुर्ग। कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए इस बार भी रक्षा बंधन पर्व पर जेल के भीतर बंदी भाइयों को राखी बांधने की अनुमति नहीं दी गई। फिर भी रक्षाबंधन पर्व पर भाइयों की कलाई सूनी न रहे इसे ध्यान में रखते हुए बड़ी संख्या में बहनें जेल में निरुद्ध अपने भाइयों के लिए राखी लेकर केंद्रीय जेल दुर्ग परिसर में पहुंची। जेल प्रशासन द्वारा परिसर में एक बाक्स रखा गया था। यहां तैनात सुरक्षा प्रहरी द्वारा बहनों से लिफाफे में राखी लेकर, उस पर बंदी भाई का नाम लिखकर बाक्स में डाला गया। जेल में निरुद्ध बंदी भाइयों तक उक्त लिफाफे को जेल प्रशासन द्वारा पहुंचाया गया। हालांकि जेल प्रशासन द्वारा इस व्यवस्था के संबंध में जेल में निरुद्ध बंदियों के माध्यम से उनके परिवार के सदस्यों को सप्ताह भर पहले से अवगत कराया गया था। लेकिन इसके बाद भी रक्षाबंधन पर्व को लेकर गुरुवार सुबह छह बजे से केंद्रीय जेल दुर्ग में बहनों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया।

मानपुर मोहला से आई पूजा व कुलेश्वरी ने बताया कि उन्होंने अपने भाई के नाम पर एक लिफाफे में राखी पैक कर बाक्स में डाल दिया है। उनका कहना था कि जेल के भीतर राखी बांधने की अनुमति मिल जाएगी इस उम्मीद से वे आए थे। इसी तरह बोरसी निवासी सरोज बाई कौशिक,विनायक पुर निवासी भूमिका टंडन भी जेल में निरुद्ध अपने भाई को राखी बांधने पहुंची थी। लेकिन इन बहनों को भी राखी लिफाफे में पैक कर जेल परिसर में रखे गए बाक्स में डालना पड़ा। यहां तैनात प्रहरी द्वारा लिफाफे में राखी लेकर आने वाली बहनों का नाम पता एक रजिस्टर में दर्ज किया गया।

बसों में रही भीड़

इधर त्यौहार की वजह से बस, ट्रैन और अन्य सवारी वाहनों में अच्छी खासी भीड़ रही। भीड़ की वजह से बहनों को अपने गंतव्य तक जाने में परेशानी उठानी पड़ी। इधर सड़क पर वाहनों की रेलमपेल भी रही। कुम्हारी, डबरापारा एवं सुपेला में फोरलेन पर जाम की स्थिति कई बार बनी।

पुलिस जवानों को बांधा रक्षा सूत्र

उतई पुलिस के जवानों को ग्राम पंचायत डूमरडीह के महिला कांग्रेस के पदाधिकारियों ने रक्षा सूत्र बांधा। डूमरडीह महिला कांग्रेस अध्यक्ष अनिता पुरैना, उपाध्यक्ष अनिला जांगड़े, पंच अनीता बंजारे ने जवानों को रक्षा सूत्र बांधा। इस दौरान ग्राम पंचायत डूमरडीह के उप सरपंच प्रदीप पाटिल, उतई थाना के एएसआइ देशमुख, गणेश चेलक, देशलहरे एवं पात्रे सहित अन्य थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close