दुर्ग। खुले में शौचमुक्त के स्थायित्व को बनाए रखने जिला पंचायत द्वारा छूटे हुए पंचायतों में सार्वजनिक शौचालय का निर्माण कराया गया है। ऐसे करीब 90 गांवों का चयन किया गया है। इनमें से कई गांवों में शौचालय बनकर तैयार हो गया है लेकिन इसे उपयोग में नहीं लाया जा रहा है। कहीं उद्घाटन के इंतजार में शौचालय में ताला लगा दिया गया है तो कहीं पानी की व्यवस्था नहीं होने की वजह से ताला बंद कर रखा गया है। ऐसी स्थिति के बाद ग्रामीण इन शौचालयों का उपयोग ही कर पा रहे है। ऐसे में इस तरह के शौचालयों के औचित्य पर ही सवाल खड़े हो रहे है।स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के तहत जिले में घर-घर शौचालय का निर्माण कराया जा चुका है। जिन घरों में शौचालय बनाने के लिए जगह नहीं थी उनके लिए गांव में ही खाली जगह पर सामुदायिक शौचालय बनाया गया।

जिला पंचायत से प्राप्त जानकारी के अनुसार की ग्राम पंचायत के आश्रित गांवों में सार्वजनिक शौचालय का निर्माण नहीं हो पाया था। इन आश्रित गांवों में मनरेगा व 15 वें वित्त आयोग में प्राप्त राशि के तहत सार्वजनिक शौचालय बनाया गया है। जिले भर में करीब 90 गांवों में शौचालय निर्माण कराया जा रहा है। इस वर्ष कुल 176 सार्वजनिक शौचालय निर्माण का लक्ष्य रखा गया था। अधिकांश गांवों में सार्वजनिक शौचालय का निर्माण तो पूरा हो गया है लेकिन उसे लोगों के उपयोग में लाने के लिए चालू नहीं किया गया है। नए बने शौचालय को प्रारंभ करवाने जनप्रतिनिधि और अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं।

बाहर से चकाचक, लेकिन भीतर काम बाकी

मौके पर जाकर देखने से सभी नवनिर्मित शौचालय बाहर से चकाचक नजर आ रहा है। लेकिन इनमें से कुछ शौचालय ऐसे हैं जिनका काम अभी भी बाकी है। कहीं प्लास्टर का काम बाकी है तो कहीं सीट बैठाने का। वहीं पूरी तरह बनकर तैयार कुछ शौचालयों में पानी की व्यवस्था नहीं हो पाई है इस कारण ताला बंद कर रखा गया है। एक गांव में शौचालय इसलिए शुरू नहीं किया गया है क्योंकि संचालन एजेंसी अब तक तय नहीं हो पाया है।

मंत्री से कराएंगे उद्घाटन

ग्राम पंचायत नारधा में शौचालय बनकर तैयार है। यहां के सरपंच विपिन चंद्र

शर्मा ने बताया कि गांव में शौचायलय,सामुदायिक भवन सहित अन्य निर्मित कार्यों का लोकार्पण कराया जाना है। गृहमंत्री से समय मिलते ही लोकार्पण कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि गांव में घर-घर शौचालय पहले से ही बन चुका है।

पानी की व्यवस्था नहीं

ग्राम पंचायत मोंहदी में दो शीटर शौचालय का निर्माण तो हो गया है। लेकिन यहां पानी की व्यवस्था नहीं बन पाई है। सरपंच मंजू बघेल ने बताया कि शौचालय के निकट बोर कराया गया था जिसमें पानी नहीं आया। बोर फेल होने की वजह से पानी की व्यवस्था बनाने में दिक्कत हो रही है। शौचालय के लिए पानी की व्यवस्था बनाने का प्रयास जारी है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close