दुर्ग। नेवई गोलीकांड में जेल में निरुद्ध एक आरोपित को पिछले दिनों इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया था। आरोपित को अस्पताल लाने वाले एंबुलेंस चालक पर दस हजार रुपये मांगने का आरोप लगाया गया है।

चालक ने आरोपित को इलाज के लिए भर्ती कराने के नाम पर रकम मांग थी। आरोपित के स्वजन से तीन हजार रुपये लेने के बाद भी चालक ने उसे अस्पताल में भर्ती नहीं कराया।

घटना शनिवार की बताई गई है। नेवई गोलीकांड का आरोपित मुकेश सिंग सेंट्रल जेल दुर्ग में निरुद्ध है। स्वास्थ्य खराब होने पर उसे शनिवार को जिला अस्पताल लाया गया था। आरोपित के साथी अभिषेक साहू ने बताया कि जेल लाने वाले एंबुलेंस चालक रमेश भोई जोगी ने उसे अस्पताल में भर्ती कराने के नाम पर 10 हजार रुपये मांगे।

इस पर मुकेश की पत्नी ने तीन हजार रुपये दिया। रकम देने वालों का आरोप है कि पैसे लेने के बाद भी मुकेश में अस्पताल में भर्ती नहीं कराया गया उसे देर शाम एबुलेंस चालक ने जेल शिफ्ट कर दिया।

इस घटना को लेकर रविवार शाम अभिषेक साहू,प्रशांत सहित अन्य लोगों ने सेंट्रल जेल के सामने प्रदर्शन किया। अभिषेक का कहना है कि पैसे की मांगने की शिकायत जेल प्रशासन से स्पीड पोस्ट के माध्यम से की गई है।

-

शनिवार को एक बंदी को अस्पताल भेजा गया था लेकिन उसे भर्ती नहीं कराया गया। अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराए जाने के नाम पर पैसे मांगने की शिकायत मुझे नहीं मिली है। किसी के कहने पर किसी भी बंदी को अस्पताल में भर्ती नहीं लिया जाता है इसके लिए जेल का नियम कानून बना हुआ है।

-योगेश क्षत्रिय, जेल अधीक्षक सेंट्रल जेल दुर्ग

--

- आरोपित को अस्पताल लाने वाले एंबुलेंस चालक पर दस हजार रुपये मांगने का आरोप लगाया गया

-नेवई कांड के आरोपित को लाया गया था अस्पताल

---

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close