दुर्ग। बुधवार सुबह बारिश थमते ही शिवनाथ नदी पर बाढ़ का खतरा टल गया। हालाकि पुलगांव के पुराने पुल पर पानी एक फीट नीचे बह रहा है वहीं महमरा एनीकट पर सात फीट ऊपर पानी बह रहा है। सुरक्षा के लिहाज के महमरा एनीकट पर बेरीकेट्स लगाया गया है। हालाकि बारिश थमने के बाद भी नदी किनारे गांवों की स्थिति पर अधिकारी नजर रखे हुए हैं। दोपहर में अधिकारियों ने इन क्षेत्रों का निरीक्षण कर वस्तु स्थिति का जायजा लिया।

जिले में सोमवार से शुरू हुई बारिश बुधवार सुबह करीब आठ बजे थम गई। लेकिन इस अवधि में रूक-रूक कर कहीं मध्यम तो कहीं तेज बारिश हुई। इसके अलावा राजनांदगांव के मोंगरा बैराज से 20 हजार क्यूसेक पानी शिवनाथ नदी में छोड़ा गया था। निरंतर बारिश और मोंगरा से छो?ेड़े गए पानी की वजह से बुधवार को शिवनाथ का जलस्तर तेजी से बढ़ने लगा। शिवनाथ नदी उफान पर है। नदी स्थित पुलगांव के पुराने पुल पर पानी करीब एक फीट नीचे बह रहा था। बारिश होने के सूरत में पानी पुल के ऊपर से बहने की आशंका अभी भी जताई जा रही है। वहीं महमरा एनीकट के ऊपर करीब सात फीट पानी बह रहा था। शिवनाथ नदी का प्रवाह तेज होने के साथ ही बारिश का पानी पीसेगांव,मोहलई की सीमा छूने लगा है। नदी किनारे संचालित ईट-भठ्ठों में पानी भर गया है। दुर्ग से पीसेगांव जाने वाली सड़क मार्ग पर भी पानी भर गया था। हालाकि बारिश की स्थिति को देखते हुए प्रशासन ने नदी किनारे बसे दर्जनभर गांव के लोगों को मंगलवार रात अलर्ट कर दिया था। समय रहते लोगों को सचेत करने और बुधवार सुबह बारिश थमने की वजह से किसी तरह की जन-धन की हानि नहीं हुई है।

शिवनाथ नदी के जलस्तर को देखते हुए महमरा एनीकट के पांच गेट को खोला गया है। ताकि नदी से पानी का प्रवाह आगे की ओर निरंतर बना रहे। वहीं बुधवार को शिवनाथ नदी का जलस्तर देखने बड़ी संख्या में लोग महमरा एनीकट और पुलगांव के पुराने पुल पर पहुंचे थे। अधिकांश लोग यहां सेल्फी लेते नजर आए।

शिवनाथ नदी का जलस्तर बढ़ने के साथ ही नदी पर बने छोटे रपटों पर आवागमन बंद हो गया है। महमरा एनीकट के ऊपर से पानी बहने के कारण यहां भी आवागमन बंद हो गया है। कोटनी-नगपुरा एनीकट,मालूद-बेलौदी रपटा पर भी आवागमन बंद है। इ्‌न क्षेत्रों में लोग नदी किनारे सब्जी-भाजी की फसल लेते हैं। जिनके पानी में आंशिक रूप में डूबने की आशंका भी जताई जा रही है।

निरंतर बारिश के बाद जिले में वर्षा की स्थिति में काफी सुधार आ गया है। जिले में अब तक औसत से करीब 86 मिमी अधिक बारिश हो गई है। भू अभिलेख शाखा से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में अब तक औसत 956.7 मिमी बारिश हो चुकी है। जो गत वर्ष की औसत वर्षा 872.1 मिमी से अधिक है। जिले के पाटन ब्लाक में अब तक 1146 मिमी,दुर्ग ब्लाक में 984 मिमी और धमधा ब्लाक में 740 मिमी बारिश हो चुकी है।

विनय पोयाम, एसडीएम दुर्ग ने कहा कि सुबह नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ने पर नदी किनारे बसे गांवों का जायजा लिया गय। बारिश थमने की वजह से बाढ़ जैसी स्थिति निर्मित नहीं हुई है। बारिश से किसी तरह की जन हानि या अन्य नुकसान होने की खबर नहीं है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local