दुर्ग। कसारीडीह नाला के दोनों तरफ दीवार टूटी हुई है। टूटी हुई दीवार की लंबाई करीब दो सौ मीटर है। निकासी व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए पार्षद द्वारा दीवार का निर्माण कराए जाने की मांग को लेकर निगम प्रशासन को तीन बार पत्र लिखा जा चुका है।

लेकिन नगर निगम ने अब तक इस्टीमेंट ही तैयार नहीं किया है। दीवार टूटने की वजह से बारिश के पानी की निकासी को लेकर दिक्कत होगी।

करीब तीन किमी लंबा कसारीडीह नाला में दुर्ग निगम क्षेत्र के 10 वार्डों का गंदा पानी आता है। जिन वार्डों का गंदा पानी आता है उसमें वार्ड क्रमांक-41,42,43,45,46,54,37,38 और वार्ड क्रमांक-55 शामिल है। पार्षद मनी गीते ने बताया कि नाला के दोनों तरफ दो सौ मीटर करीब चार महीने से टूटी हुई है।

निगम अधिकारियों का ध्यान इस ओर अवगत कराया गया है और निगम प्रशासन को पत्र लिखकर नाला के टूटे हिस्से का निर्माण कराने कहा गया है।

पार्षद ने बताया कि तीन बार पत्र लिखने के बाद भी दीवाल निर्माण के लिए नगर निगम ने अब तक इस्टीमेंट तैयार नहीं किया है। बारिश शुरू हो गई है यदि पानी तेज गिरा तो दीवाल टूटने की वजह से पानी निकासी को लेकर दिक्कत होगी।

नाला सफाई भी अधूरा

पार्षद मनी गीते ने बताया कि बारिश को ध्यान में रखते हुए निगम प्रशासन द्वारा कसारीडीह नाला की सफाई कराई जा रही है। काम ऐसा चल रहा है कि दो महीने बाद भी सफाई अधूरी है। उन्होंने बताया कि निगम अमला द्वारा नाला सफाई का काम नियमित नहीं किया जा रहा है।

शिकायत पर ही अधिकारी सफाई के लिए कर्मचारियों को भेजते हैं एक दो दिन काम करने के बाद अमला सफाई के लिए दूसरे क्षेत्र में भेज दिया जाता है। इस कारण नाला सफाई का काम अब तक अधूरा है।

- पार्षद की शिकायत पर निगम ने नहीं दिया ध्यान, बारिश में होगी दिक्कत

--

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close