दुर्ग। जिला पंचायत परिसर में गुरुवार को बिहान बाजार का शुभारंभ हुआ। जिला प्रशासन द्वारा स्व-सहायता समूह की महिलाओं द्वारा बनाए गए हैंड मेड प्रोडक्ट को विक्रय के लिए प्लेटफार्म देने के उद्देश्य से आयोजित बिहार बाजार में बड़ी संख्या में लोग पहुंचे। बिहान मेले में महिला स्व-सहायता समूहों ने स्वयं द्वारा निर्मित उत्पादों से बाजार को सजाया।

मेले में जिले के कई महिला समूहों द्वारा छत्तीसगढ़ी व्यंजनों का स्टाल लगाया गया है। वहीं, कुछ समूह गोबर से बने पंचगव्य दीप का विक्रय कर रहे हैं। समूहों द्वारा मोमबत्ती, रुई की बत्ती, ग्लिसरीन साबुन, हर्बल हैंड वाश और छत्तीसगढ़ी व्यजंन जैसे अनरसा, गुझिया, खुरमी, ठेठरी का भी विक्रय किया जा रहा है।

जिला पंचायत सीईओ सच्चिदानंद आलोक ने बताया कि स्व-सहायता समूह की महिलाओं ने करीब चार लाख दीये बनाए हैं, जिसमें से एक लाख दीयों का विक्रय अपने स्तर पर कर चुकी हैं। बिहान बाजार में महिलाओं द्वारा गोबर से निर्मित करीब दो लाख दीप विक्रय के लिए उपलब्ध है। इसके अलावा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी इन महिलाओं को 40 हजार दीयों का आर्डर दिया है, जो एक-दो दिनों में डिलीवर कर दिया जाएगा।

सीईओ ने बताया कि करीब 100 स्व-सहायता समूह बिहान बाजार में अपने उत्पादों का विक्रय करेंगे। जागृति स्व-सहायता समूह, पाटन की मनीषा चंद्राकर बिहान मेले छत्तीसगढ़ी व्यजंन जैसे गुझिया, राजगीर लड्डू, अनरसा, ठेठरी, खुर्मी, नारियल लड्डू का विक्रय कर रही हैं। गीतांजलि स्व-सहायता समूह की महिलाएं रुई की बत्ती, मोमबत्ती, ग्लिसरीन युक्त एलोवीरा, चारकोल, नीम आदि के साबुन विक्रय कर रही हैं। सिद्धि स्व-सहायता समूह बोरिगारका उतई की पुष्पा साहू फ्लोटिंग कैंडल, आचार, पापड़, बड़ी आदि का विक्रय कर रही हैं।

सांसद सरोड पांडेय पहुंची मेेले में

राज्यसभा के सदस्य सरोज पांडेय जिला पंचायत परिसर में आयोजित बिहान मेले मंे पहुंचीं। सरोज ने महिला समूह द्वारा मेले में रखे गए उत्पादों के बारे में जानकारी ली और खरीदी भी की। उन्होंने मेले में लगाए गए विभिन्ना स्टालों का अवलोकन भी किया। स्टेट बैंक आफ इंडिया के रीजनल मैनेजर शेष चक्रवर्ती भी बिहान मेला में पहुंचीं। उन्होंने पहली बार देखा कि गोबर से भी इतनी सुंदर चीज बन सकती है।

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local