गरियाबंद। छत्तीसगढ़ में लोकसभा चुनाव में हुए भारी मतदान से नक्सली नाराज हैं और बौखलाहट मिटाने के लिए बड़ी घटनाओं को अंजाम देने की साजिश कर रहे थे, लेकिन गरियाबंद पुलिस ने यहां इनकी साजिश को नाकाम कर दिया है। पुलिस और सुरक्षा बलों की 24 अप्रैल को यहां नक्सलियों से मुठभेड़ हुई थी। इस मुठभेड़ के दौरान पुलिस ने एक नक्सली को पकड़ा था। पकड़े गए नक्सली ने इस बड़ी साजिश का खुलासा किया है। इसी के साथ पुलिस ने पकड़े गए नक्सली की निशानदेही पर बड़ी तादात में बम बनाने का सामान और अन्य हथियार जब्त किए हैं।

गरियाबंद के पुलिस अधीक्षक एम आर अहिरे ने गुस्र्वार को एक प्रेस वार्ता के दौरान इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि 24 अप्रैल को सूचना प्राप्त हुई थी कि कोदोमाली के मध्य मुख्य सड़क मार्ग के किनारे नक्सलियों ने बैनर पोस्टर लगाए हैं।

इस सूचना के आधार पर थाना जुगाड़ से उपनिरीक्षक कैलाश केशरवानी के नेतृत्व जिला बल व सीआरपीएफ 211 बीएन ई कंपनी के असिस्टेंट कमांडेंट श्रीराम शर्मा के नेतृत्व में संयुक्त पार्टी को तस्दीक के लिए वहां रवाना किया गया।

टीम को ग्राम तौरेंगा और कोदोमाली के मध्य मुख्य सड़क के किनारे पेड़ में लाल रंग के कपड़े का बैनर-पोस्टर लगा मिला। जिसमें मैनपुर नुआपाड़ा डिविजन कमेटी के नक्सलियों द्वारा राजनीतिक प्रत्याशियों और पुलिस के विरूद्ध व नक्सली नारे लिखे हुए थे।

पुलिस पार्टी द्वारा बैनर पोस्टर को निकाला जा रहा था इसी बीच नक्सलियों ने पेड़ों पर लगे बैनर के पास आइईडी विस्फोट कर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस पार्टी ने जवाबी फायरिंग की की। पुलिस पार्टी को हावी होता देख 20-22 बंदूकधारी नक्सल सदस्य जंगल की ओर भाग गए। जिनका पुलिस पार्टी द्वारा पीछा किया गया तो एक नक्सली जंगल के भीतर पकड़ा। पूछताछ करने पर उसने अपना नाम अर्जुन उर्फ पायकू पिता आयतु कुंजाम निवासी लेंड्रा-पालनार थाना गंगालूर जिला बीजापुर बताया, जो सीपीआई माओवादी मैनपुर नुआपाड़ा डिविजन कमेटी अंतर्गत टेक्नीकल टीम का डिप्टी कमांडर है, जिस पर तीन लाख स्र्पये का इनाम घोषित है।

घटना में एसजेडसी जयराम उर्फ गुड्डू, गुड्डू का गार्ड मंजूला और शर्मिला, संगीता, सीनापाली एरिया कमेटी के राजीव, विद्या, जनीला, पूजा, नंदिनी, गीता, अंजली, एसडीके एरिया कमेटी के बलदेव, पार्वती, दिलीप, उमेश, शंकर, रिंकी, रूपेश, उदंती एलओएस के आकाश, रामजी, रामे, सुरती, सुमित्रा, नंदू उर्फ नंदलाल को शामिल होना बताया।

शेष नक्सलियों की पतासाजी के लिए घटना स्थल के आसपास दिनभर सर्चिंग की गई तो मौके से 50 मीटर लगभग लंबा इलेक्ट्रिक वायर, विस्फोट से टूटा हुआ प्रेशर कुकर का टुकड़ा, नक्सल बैनर-पाम्पलेट बरामद किया गया। इसके अलावा गिरफ्तार नक्सली की निशानदेही पर 6 नग जिलेटिन स्टीक, 4 नग डेटोनेटर, 8 नग बैटरी सेल भी वहां बरामद हुए।

पूछताछ में गिरफ्तार नक्सली ने बताया कि लोकसभा चुनाव में जिला गरियाबंद में हुए भारी मतदान से माओवादी अत्यधिक बौखलाए हुए हैं। मतदान केन्द्र ग्राम ओंढ़, आमामोरा, साहेबिनकछार व नागेश में तैनात सुरक्षा बलों व मतदान पार्टी को नुकसान पहुंचाने की योजना माओवादियों द्वारा बनाई गई थी, लेकिन यह योजना सुरक्षा बलों की सटीक रणनीति की वजह से नाकाम हो गई।

इसी बौखलाहट में नक्सली अब यहां बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में थे। गिरफ्तार नक्सली से पूछताछ में नक्सली डेरे, आश्रय स्थल व नक्सलियों के भविष्य की रणनीतियों से जुड़ी अन्य कई गोपनीय सूचनाएं मिली हैं जो नक्सल विरोधी अभियान में प्रभावी कार्यवाही के लिए उपयोगी साबित होंगी।