फिंगेश्वर। नईदुनिया न्यूज

प्रसिद्घ फिंगेश्वर राजशाही दशहरा बड़े धूमधाम से मनाया गया। इस दिन पूरे शहर को दुल्हन की तरह सजाया गया था। दूरदराज से हजारों की तदात में लोग आए थे जो राजा की एक झलक पाने आतुर नजर आए।

जिस तरह पुराने समय में राजा महाराजा रथ में सवार होकर निकला करते थे उसी तरह राजशाही अंदाज में रथ से सवार होकर राजघराने के राजा अपने दल-बल के साथ नगर भ्रमण के लिए निकले जिसे देखने लोग पहुंचे थे। लोगों ने रथ में सवार युवराज निलेंद्र बहादुर सिंग का जोर शोर से स्वागत किया। इस बार राजा महेंद्र बहादुर सिंह का स्वास्थ्य ठीक नहीं होने की वजह से वे नगर भ्रमण के लिए नहीं निकले, हालांकि पान सुपाड़ी भेंट के दौरान राजा महेंद्र बहादुर सिंह मौजूद थे और उन्हीं की उपस्थित में राज शाही दशहरे के समापन हुआ।

रात्रि सांस्कृतिक कार्यक्रम जल्द बंद होने से लोग मायूस

फिंगेश्वर का प्रसिद्घ राजशाही राजा दशहरा धूमधाम से मनाया तो गया वहीं सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार रात्रि में लाउडस्पीकर व ध्वनि विस्तारक यंत्रों के प्रतिबंध होने की वजह से रात्रि सभी सांस्कृतिक प्रोग्राम बंद हो गया। जिससे लोगों में थोड़ी मायूसी छा गई। लोग दूरदराज से फिंगेश्वर का राजशाही दशहरा देखने पहुंचे थे। सैकड़ों लोग रात भर इधर उधर भटकते रहे। सुबह तक देखी जाने वाली भीड़ इस बार आधी रात से ही गायब हो गई।

बस्तर दशहरा की तरह प्रसिद्घ है फिंगेश्वर का राजशाही दशहरा

नौ दिनों की नवरात्र के बाद दशहरा तो सब जगह मनाया गया पर फिंगेश्वर का राजशाही दशहरा तीन दिन बाद मनाया जाता है, जिसे देखने आसपास के अंचल सहित दूर-दूर से लोग आते हैं। सर्वप्रथम फिंगेश्वर राजघराने के राजा पूरे विधि विधान के साथ अपने ईष्ट देवी देवताओं की पूजा अर्चना करते हैं और क्षेत्र की खुशहाली की कामना करते हुए एकदूसरे को दशहरा उत्सव की बधाई भी दिए। बता दे कि बस्तर दशहरा के बाद यह सबसे प्रसिद्घ राजशाही दशहरा है।

विधायक, पूर्व सांसद और पूर्व विधायक पहुंचे बधाई देने

फिंगेश्वर राजशाही दशहरा उत्सव में शामिल होने क्षेत्र के जनप्रतिनिधि भी पहुंचे थे। जिसमें विधायक अमितेश शुक्ल, पूर्व सांसद चंदूलाल साहू व पूर्व विधायक संतोष उपाध्याय ने राजा महेंद्र बहादुर सिंह व युवराज निलेंद्र बहादुर सिंह से सौजन्य भेंट कर फिंगेश्वर दशहरा उत्सव की बधाई दी। साथ ही अंचल के लोग भी राज परिवार को बधाई देते नजर आए। बधाई का सिलसिला देर रात तक जारी रहा।