नवापारा राजिम। साहू समाज राजिम भक्तिन मंदिर समिति के पदाधिकारियों का चुनाव पिछले दिनों राजिम के साहू छात्रावास में हुआ। जिसमें अध्यक्ष पद के लिए हुए सीधा मुकाबला में लाला साहू (राजिम) अध्यक्ष चुने गए। लाला साहू ने 510 मत प्राप्त कर अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी ईश्वर साहू को 125 मतों के अंतर से पराजित कर अध्यक्ष चुने गए।

यह चुनाव मंदिर समिति के अध्यक्ष डाक्टर महेंद्र साहू एवं निर्वाचन अधिकारी डा. रामकुमार साहू, प्रदेश उपाध्यक्ष भुनेश्वर साहू, ईश्वरी साहू, मेहतरु साहू, मेघनाथ साहू, जिला पंचायत सदस्य रोहित साहू, डा. दिलीप साहू, डा.लीलाराम साहू, रामकुमार साहू, भोले साहू, भवानी साहू, श्याम साहू, नंदू साहू, त्रिलोक साहू के मार्गदर्शन में हुआ।

महासचिव पद के लिए हुए त्रिकोणीय मुकाबले में मिन्जुन साहू को 430, चमन साहू को 247 और फलैंद्र साहू को 209 वोट मिले। इस तरह मिन्जुन साहू 183 मतों के अंतर से महासचिव निर्वाचित हुए । सहसचिव पद के लिए हुए सीधे मुकाबले में ठाकुर राम साहू को 647 और सालिक राम साहू को 214 वोट मिले। इस तरह 433 मतों के अंतर से ठाकुर राम सहसचिव चुने गए। यह संस्था विगत 45 से अधिक वर्षों से संचालित है। इस संस्था में आजीवन सदस्यों सहित गरियाबंद, महासमुन्द, धमतरी एवं रायपुर जिला के 1हजार से अधिक सदस्य मतदाता हैं।

मंदिर समिति के पूर्व अध्यक्ष डा.महेंद्र साहू ने कहा कि विगत 12 वर्षों से मंदिर हित में जो कार्य संपादित हुआ है उसे जीवंत रखने प्रत्येक शनिवार को तिल्ली के तेल से भक्त माता राजिम का अभिषेक एवं प्रत्येक वर्ष भक्त माता राजिम के 1 जनवरी से 7 जनवरी तक माता के मूर्ति को रथ में सजाकर गांव गांव में राजिम माता जयंती के लिए जनजागृती का कार्य, मांघी पुन्नी से लेकर महाशिवरात्रि तक के युवा प्रकोष्ठ एवं समाज जनों के सहयोग से किए गए निशुल्क भोजन भंडारा का आयोजन हर वर्ष चलता रहे। माता राजिम की जीवनी के फिल्मांकन का अधिक प्रचार-प्रसार हो ऐसा मैं नवनिर्वाचित पदाधिकारियों से अपेक्षा करता हूं।

80 प्रतिशत मतदाताओं ने किया मतदान

इस दौरान 80 प्रतिशत मतदाताओं ने मतदान किया। कुछ प्रत्याशी एकल नामांकन होने से पहले ही निर्विरोध निर्वाचित हो गए थे। समाज जनों ने श्रीसंगम राजिम धाम की अधिष्ठात्री माता पद्मावती (राजिम भक्तिन माता) के महात्म्य को जन जन तक पहुंचाकर साहू समाज की श्रीवृद्घि में बढ़ोतरी करने का आग्रह किया है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close