जगदलपुर। छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र से घरेलू उड़ान सेवा को डीजीसीए की मंजूरी मिलने के बाद अनुबंधित कंपनी एयर एलायंस के द्वारा शुक्रवार को विमान परिचालन का सफल ट्रायल हुआ। इसी के साथ टिकट काउंटर समेत स्टाफ की तैनाती भी की गई है। एलायंस द्वारा एटीआर 72 विमान के लैंडिंग व टेक ऑफ का ट्रायल यहां किया गया। इस दौरान आसमान पूरी तरह साफ था और बहुत ही स्मूथ लेंडिंग एयर स्ट्रिप पर हुई। सफल ट्रायल के बाद अब 29 मार्च से जगदलपुर एयरपोर्ट से नियमित विमान सेवा शुरू कर दी जाएगी।

सुबह 11 बजे रायपुर से एयर अलाइंस के विमान ने जगदलपुर एयरपोर्ट पर लैंड किया। विमान में एयर इंडिया और एयरपोर्ट अथॉरिटी के अफसर सवार थे। बस्तर कलेक्टर डॉ अयाज तम्बोली, जगलपुर एयरपोर्ट के प्रभारी अफसर भौमिक और राठौर, मैनेजर एटीसी अखिलेश जोशी, एटीएस के ही पुलवामी चौधरी, मैनेजर सीएमएस विश्वजीत दास, कनिष्ठ कार्यपालक सीएमसी अभिषेक कुमार, एजीएम इलेक्ट्रिकल प्रशांत फुलझर व अन्य अफसरों ने एयपोर्ट का निरीक्षण कर यहां उपलब्ध सेवाओं का जायजा लिया।

जगदलपुर से विशाखापटनम, हैदराबाद समेत राजधानी रायपुर तक नियमित उड़ान सेवा की योजना बरसों पूर्व से बनाई जा रही है, लेकिन डीजीसीए के मानकों के अनुरूप एयरपोर्ट में संरचना विकसित नहीं हो पाने और बार-बार आपत्तियों के चलते यह योजना दो साल से अटकी हुई थी। प्रशासन की ओर से एयरपोर्ट का उन्न्यन भी करवाया गया है। निर्देश के अनुरूप रनवे की लंबाई बढ़ाई गई है। वहीं चाहरदीवारी की ऊंचाई भी बढ़ाई गई है। हाल में जारी बजट में सरकार ने यहां आधुनिक एटीसी निर्माण की मंजूरी दी है। डीजीसीए की ओर से लाइसेंस जारी होने के बाद अब नियमित उड़ान का रास्ता प्रशस्त हो गया है। एयरपोर्ट सूत्रों के अनुसार आगामी 15 मार्च से एयर एलाइंस का 70 सीटर विमान यहां से उड़ान भरेगा।

शुक्रवार को कंपनी की तकनीकी टीम ने नियमित उड़ान के लिए फाइनल रिहर्सल भी की। विमान के लैंडिंग व टेक ऑफ का ट्रायल लिया गया। एयरपोर्ट में स्टेशन मैनेजर समेत बुकिंग स्टाफ की तैनाती भी की गई है। वहीं एयरपोर्ट की सुरक्षा के लिए जिला बल व सीएएफ के 100 जवानों व अधिकारियों को राजधानी में विशेष रूप से ट्रेनिंग दी गई है और उन्हें अब यहां एयपोर्ट पर तैनात किया गया है।

बता दें कि 15 जून 2018 को राज्य के बस्तर मुख्यालय जगदलपुर एयरपोर्ट से एयर ओडिशा के छोटे विमानों का परिचालन शुरू हुआ था, लेकिन विमानन कंपनी नियमित सेवा नहीं दे पाई। इसके साथ ही एयरपोर्ट में तकनीकि कमियों की वजह से यहां से विमानों का परिचालन 21 दिनों बाद बंद कर दिया गया था। इसके बाद नवंबर 2018 में एयर ओडिशा का अनुबंधन डीजीसीए ने रद्द कर दिया था। देश के सबसे संवेदनशील नक्सल प्रभावित बस्तर इलाके से विमान सेवा शुरू किए जाने का लाभ यहां के लोगों को मिलेगा।

Posted By: Himanshu Sharma

fantasy cricket
fantasy cricket