जगदलपुर। Bastar Dussehra: पिछले लगातार दो साल तक कोरोना आपदा के कारण सादगी से बस्तर दशहरा उत्सव मनाया गया था। इस साल कोरोना आपदा का संकट छंटने के बाद विश्व प्रसिद्ध बस्तर दशहरा में वही पुरानी रौनक लौट आई है। दशहरा उत्सव में शामिल होने दंतेवाड़ा से जगदलपुर पहुंची मां दंतेश्वरी के छत्र और माता मावली की डोली का मंगलवार शाम भव्य स्वागत किया गया। हजारों की भीड़ भक्तिभाव से उमड़ी थी। गीदम रोड स्थित विश्राम स्थल जिया डेरा से जैसे ही माता की डोली पैलेस रोड में पहुंची सैकड़ों घरों से फूलों की बरसात होने लगी। ऐसा जुनून बस्तरवासियों में कभी-कभी मिलता है।

बस्तर दशहरा पूजा विधान की सबसे महत्वपूर्ण रस्म मावली परघाव है। दंतेवाड़ा से जगदलपुर पहुंची माता की डोली और छत्र का स्वागत सैंकड़ों वर्षो से राज परिवार द्वारा किया जा रहा है। मां दंतेश्वरी की डोली सोमवार देर रात एक बजे के बाद जिया डेरा पहुंची थी। जिया डेरा में सुबह से शाम तक माईजी की डोली का दर्शन करने लोगों का तांता लगा रहा। शाम को माईजी की डोली दंतेश्वरी मंदिर के लिए रवाना हुई। डोली पैलेस रोड में पुराने कूटरु बाड़ा के पास पहुंची।

इधर राजमहल की तरफ से पहुंचे राज परिवार के सदस्य कमलचंद भंजदेव, राजगुरु अरुण ठाकुर, बस्तर दशहरा समिति के अध्यक्ष सांसद दीपक बैज, संसदीय सचिव रेखचंद जैन आदि ने माता की डोली का आत्मीय स्वागत किया। इस दौरान मार्ग के दोनों तरफ की इमारतों से लगातार फूलों की बारिश होती रही सड़क के दोनों किनारे हजारों की भीड़ माता के आत्मीय स्वागत का नजारा देखने टकटकी लगाए खड़ी थी। समाचार लिखे जाने तक मावली परघाव की रस्म चल रही थी।

कमल चंद भंजदेव स्वयं डोली को अपने कंधे पर रख दंतेश्वरी मंदिर ले जाएंगे

मावली परघाव के बाद राज परिवार कमल चंद भंजदेव स्वयं डोली को अपने कंधे पर रख दंतेश्वरी मंदिर ले जाएंगे। यहां मंदिर के पुजारियों द्वारा परंपरानुसार माईजी की डोली का स्वागत किया जाएगा। बताया गया कि बुधवार शाम मां दंतेश्वरी का छत्र कुछ समय के लिए विजयरथ में आरूढ़ होगी। तत्पश्चात रथ के आगे चल रहे वाहन में विराजेगी। उनके रथ से नीचे आने के बाद ही शहर स्थित मां दंतेश्वरी मंदिर का छत्र रथारुढ़ किया जाएगा। रथ परंपरानुसार मावली माता मंदिर की परिक्रमा करेगी इस परिक्रमा को ही भीतर रैनी कहा जाता है। मावली परघाव में बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था को संभालने पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के नेतृत्व में सैकड़ों जवानों को लगाया गया है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close