हेमंत कश्यप. जगदलपुर। Bastar News : विश्व बाजार में थाईलैंड की मीठी इमली की धाक है लेकिन अब बस्तर की गुड़हा इमली इसे चुनौती देने जा रही है। वन विभाग बस्तर की गुड़हा इमली की पैकेजिंग व मार्केटिंग करने जा रहा है। इसे संजीवनी मार्ट के माध्यम से बेचने का निर्णय लिया गया है। गुरुवार को जिले के दरभा वन परिक्षेत्र के कनकापाल गांव में गुड़हा इमली की पहली खरीदी की गई। तीन दिवसीय प्रवास पर बस्तर आए अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक बी आनंद बाबू ने दरभा रेंज के चिंगीतरई में इसकी जानकारी दी।

परिक्षेत्र के कनकापाल में लगभग 75 किलो मीठी इमली की खरीदी कर इस नए कारोबार की शुरुआत की गई। यह इमली 40 रुपये की दर से महिला स्व सहायता समूह खरीदेगा। इन समूहों को दोगुना कमीशन भी दिया जाएगा। बस्तर के लगभग हर गांव में दो-चार गुड़हा इमली के वृक्ष हैं। अब तक इसे सामान्य दर पर ही खरीदा बेचा गया है। अब इसकी मार्केटिंग की योजना पर काम शुरू हो गया है।

बांटे जाएंगे पौधे, बनेगा कोल्ड स्टोरेज

अधिकारियों का कहना है कि गुड़हा इमली वृक्षों को चिन्हित कर इन्हें संरक्षित किया जाएगा। इसके बीजों से नए पौधे तैयार कर ग्रामीणों को वितरित किया जाएगा। मीठी इमली के कारोबार को बस्तर में बढ़ाने का अभिनव प्रयास हो रहा है। दरभा ब्लाक के चिंगीतरई में 10 एकड़ भूमि अधिग्रहित कर वनोपज कोल्ड स्टोरेज का निर्माण विभाग करने जा रहा है। गुरुवार को अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक बी आनंद बाबू इसी परिप्रेक्ष्य में चिंगीतरई पहुंचे थे। इन दिनों वन विभाग द्वारा खट्टी इमली 36 रुपये की दर से खरीदी जा रही है, जबकि मीठी इमली की दर 40 रुपये निर्धारित की गई है। गुड़हा इमली छिलका सहित खरीदी जाएगी। इसे पैकिंग कर छत्तीसगढ़ लघु वनोपज मर्यादित समिति की संजीवनी मार्ट के माध्यम से विभिन्ना स्थलों पर बेचा जाएगा।

हर साल 20 अरब का कारोबार

जगदलपुर मंडी कार्यालय के अनुसार बस्तर संभाग में सालाना लगभग 20 अरब रुपये की इमली का कारोबार होता है। बस्तर की इमली खाड़ी देशों सहित विश्व के 10 देशों को निर्यात की जाती है। बस्तर में खट्टी और मीठी दोनों इमली मिलती है। मीठी इमली यहां गुड़हा इमली के नाम से चर्चित है। खट्टी इमली की डिमांड हर साल रहती है लेकिन गुड़हा इमली को आज तक वांछित बाजार नहीं मिल पाया है। यहां के लोग लंबे समय से इस इमली की अलग से खरीदी- बिक्री की मांग करते आ रहे हैं। बताया गया कि इसके एक वृक्ष से औसतन तीन क्विंटल इमली मिल जाती है।

Posted By: Ravindra Thengdi

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags