जगदलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि।

सेकंड हैंड वाहनों की बिक्री के लिए अब लोगों को आरटीओ दफ्तर के चक्कर काटने से निजात मिलेगी। साथ ही, अनावश्यक रूपये भी खर्च करने से मुक्ति मिलेगी। दरअसल विभाग की ओर से आनलाइन दस्तावेज जमा करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। पूर्व में विक्रय के बाद स्वामी को वाहन के पेपर आरटीओ दफ्तर में जमा करना पड़ता था। कई बार कर्मचारी के मौजूद न रहने तथा व्यस्तता के चलते ट्रांसफर में विलंब होता था। झंझट से बचने लोग अधिक रूपये खर्च कर एजेंट का सहारा लेते थे। नई व्यवस्था से कार्यालय में फाइलों का अंबार नहीं लगेगा। वहीं फर्जीवाड़ा में भी रोक लगेगी। ज्ञात हो कि बड़ी संख्या में सेकंड हैंड दुपहिया व चारपहिया वाहनों की खरीद-फरोख्त होती है। नई व्यवस्था के तहत वाहन स्वामी अपनी वाहन बेचने के उपरांत खुद घर बैठे परिवहन विभाग की वेबसाइट पर दस्तावेज अपलोड कर सकेंगे। जीओवी डाट इन साइट पर जाकर वाहन के खरीदी-बिक्री का पेपर अपलोड किया जा सकता है। इससे समय व रूपया बचेगा। गाड़ियों का फर्जी दस्तावेज बनाकर बेच पाना भी संभव नहीं होगा।

बाक्स

फर्जीवाड़े पर कसेगी नकेल

आटीओ एसएस कौशल ने बताया कि वाहन स्वामी की जानकारी के बिना डुप्लीकेट पेपर के आधार पर वाहन बेचने के मामले सामने आते हैं। कई बार वाहन स्वामी खुद ही वाहन बेच देता है और बाद में मुकर जाता है। अब वाहन विक्रय के बाद जिस आइडी से वाहन के पेपर वेबसाइट पर अपलोड किए जाएंगे, उसे ट्रेस करना मुमकिन होगा। इससे फर्जीवाड़े पर नकेल लगेगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस