रितेश पांडेय। जगदलपुर। Chhattisgarh Crime news : वैसे तो लाकडाउन के दौरान की ढेरों घटनाएं आपने पढ़ीं और सुनी होंगी, लेकिन इंजीनियर शुभम रामटेके के प्रेम विवाह के बाद पहले परिवार और फिर नौकरी छूटने, तंगी के हालात में पत्नी और सालभर के बेटे की भूख मिटाने के लिए अपराधी बन सलाखों के पीछे चले जाने का मामला भीतर तक झकझोर देगा। पुलिस ने भी एक तरफ जहां अपना कर्तव्य निभाते हुए युवक को गिरफ्तार किया, वहीं उसकी दास्तां सुन इंसानियत भी दिखाई और युवक की पत्नी को मासूम के साथ उसके मायके नागपुर भेज दिया।

श्ाुभम की जिंदगी में करीब सालभर में आए उतार-चढ़ाव किसी मुंबइया फिल्म की कहानी से कम नहीं है। नागपुर निवासी शुभम सिविल में इंजीनियरिंग है। पिता अच्छे-खासे कारोबारी हैं। उनकी पांच ट्रकें भी चलती हैं। दरअसल, करीब सालभर पहले नागपुर की ही एक युवती पायल से प्रेम हो गया। जीवनभर साथ निभाने का वादा किया और श्ाादी कर ली। युवती दूसरे समाज से थी, इससे श्ाुभम के स्वजन नाराज हो गए और उसे घर से निकाल दिया। इसी दौरान लाकडाउन लग गया और नौकरी भी चली गई। रिश्ता जोड़ा था, सो निभाना भी था।

नागपुर में ही छोटा-मोटा काम कर किसी तरह घर चलाता रहा। करीब दो माह पहले उन्हें पुत्ररत्न की प्राप्ति हुई। इससे खुश्ाियां तो आईं लेकिन तंग हालात ने उसे महसूस करने नहीं दिया। हालात और बदतर हुए तो रोजी-रोटी की तलाश्ा में श्ाुभम पत्नी व बेटे को लेकर 28 जनवरी को बस्तर आ गया। यहां शांतिनगर में किराए पर मकान लेकर रहने लगा। पुणे के एक मित्र के सहयोग से उसने आयुर्वेदिक दवाइयां बेचने का काम शुरू किया। दुर्भाग्यवश धंधा नहीं चल पाया। हालत यह हो गई कि मकान का किराया अटक गया। मालिक बार-बार तगादा करने लगा। चूल्हा जलना भी मुश्किल होने लगा। मासूम बेटा दूध के लिए रोता तो श्ाुभम परेश्ाान हो जाता। इसके चलते वह तेजी से डिप्रेश्ान में जाने लगा।

इस तरह हुआ अपराध

करीब दो सप्ताह पहले काम की तलाश्ा में घर से निकला श्ाुभम संजय बाजार में ओडिश्ाा की एक महिला से लूटपाट कर ली। उसके सोने के टाप्स व दो हजार रुपये छीन लिए। बीते रविवार को पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया है। कोर्ट में पेश्ा करने के बाद उसे जेल भेज दिया गया है।

पत्नी की हालत देखकर भावुक हुए थाना प्रभारी

कोतवाली थाना प्रभारी उपनिरीक्षक पीयूष बघेल जब श्ाुभम को गिरफ्तार करने शांतिनगर स्थित उसके निवास में पहुंचे तो पायल और मासूम को रोते-बिलखते देखा। पायल ने बताया कि बेटा भूखा है। पति के बिना यहां असुरक्षित महसूस कर रही है। इस पर बघेल ने विभागीय अवकाश्ा लेकर पायल को उसके मायके निर्मल कालोनी नारारोड, झारीपटना नागपुर लेकर पहुंचे और उसके स्वजनों के सुपुर्द कर दिया।

Posted By: Ravindra Thengdi

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags