जगदलपुर। Chhattisgarh: सुकमा जिले के बुरकापाल समेत छह गांवों के 120 ग्रामीणों के बिना सुनवाई के तीन साल से जेल में बंद होने के मामले को प्रदेश के डीजीपी डीएम अवस्थी ने संज्ञान में लिया है। नईदुनिया ने 25 सितंबर के अंक में इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया था। अवस्थी ने बस्तर आइजी सुंदरराज पी को पत्र लिखकर कहा है कि ग्रामीणों की कोर्ट में शीघ्र सुनवाई के लिए समुचित इंतजाम कराएं। डीजीपी ने इस मामले में निजी तौर पर काम करने के निर्देश आइजी को दिए हैं।

बता दें कि बुरकापाल गांव के पास 25 अप्रैल 2017 को नक्सलियों ने घात लगाकर सीआरपीएफ के जवानों पर हमला किया था। इस हमले में 25 जवान शहीद हो गए थे। जवानों पर यह हमला तब किया गया जब वे सड़क निर्माण की सुरक्षा में लगे थे। इस हमले के बाद पुलिस ने बुरकापाल व इसके आसपास के तोंगगुड़ा, गोंदपल्ली, चिंतागुफा, ताड़मेटला और करीगुंडम गांव के कुल 120 लोगों को आरोपित बनाया था।

इन सभी के खिलाफ चिंतागुफा थाने में यूएपीए समेत आइपीसी की विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज है। इस मामले के आरोपित तीन साल से जगदलपुर जेल में बंद हैं और कोर्ट में इनकी सुनवाई नहीं हो पा रही है। आरोपितों में से कुछ की वकील व सामाजिक कार्यकर्ता बेला भाटिया ने नईदुनिया को बताया कि पुलिस की ओर से कोर्ट को यही जवाब दिया जाता रहा है कि गंभीर आरोपों के 120 कैदियों को एक साथ कोर्ट में पेश करने में दिक्कत है।

उतने जवान उपलब्ध नहीं हैं। दरअसल कोर्ट में चार्जशीट पेश होने के बाद अब आरोपितों को कोर्ट में पेश करना जरूरी है। वकीलों ने आरोपितों को अलग-अलग समूहों में पेश करने की अनुमति मांगी थी जिसे नकार दिया गया था। मामले गंभीर हैं इसलिए इनकी जमानत भी नहीं हो पा रही है। नईदुनिया में खबर छपने के बाद प्रदेश पुलिस के मुखिया ने खुद इसे संज्ञान में लिया है। अब इन ग्रामीणों के मामले की शीघ्र सुनवाई की उम्मीद की जा रही है।

न्याय पाना सबका हक

नईदुनिया से चर्चा में डीजीपी डीएम अवस्थी ने कहा कि न्याय पाना सबका हक है। सिर्फ बुरकापाल मामले की ही बात नहीं है, हमने ऐसे सभी मामलों में निर्देश दिया है कि पुलिस कोर्ट में आरोपितों को पेश करे ताकि सुनवाई हो पाए। पुलिस ने तो केस बना दिया पर जिनपर केस बना है वह वास्तव में अपराधी हैं या नहीं यह तो कोर्ट ही तय करेगा। जब उन्हें कोर्ट में पेश ही नहीं किया जाएगा तो न्याय कैसे होगा। अवस्थी ने कहा कि गरीब आदिवासियों के मामलों में संवदेनशील होने की जरूरत है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020