जगदलपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बस्तर संभाग में जनता से भेंट मुलकात के दूसरे चरण की शुरूआत 23 मई को दंतेवाड़ा से प्रारंभ करेंगे। दंतेवाड़ा में मां दंतेश्वरी के मंदिर में पूजा अर्चना करने के बाद जनता के बीच जाएंगे। यहां भूपेश बघेल माईजी को 11 हजार मीटर लंबाई की साड़ी भेंट करेंगे। 24 मई को दंतेवाड़ा से दोपहर बाद बस्तर जिले में भ्रमण कर चित्रकोट पहुंचकर रात्रि विश्राम करेंगे।

दूसरे दिन 25 मई को उनका चित्रकोट विधानसभा क्षेत्र के बास्तानार विकासखंड में किलेपाल, लोहंडीगुड़ा में विकासखंड मुख्यालय में स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम स्कूल का निरीक्षण व ग्राम बड़ांजी में भेंट मुलाकात का कार्यक्रम है। इसी दिन झीरम कांड की बरसी पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में भी मुख्यमंत्री शामिल होंगे। लालबाग में झीरम शहीद स्मारक का लोकार्पण करेंगे। 26 मई को बस्तर और 27 मई को जगदलपुर विधानसभा क्षेत्र में भेंट मुलाकात का कार्यक्रम हैं।

इसके बाद 28 मई को भूपेश बघेल कोंडागांव जिले के लिए रवाना हो जाएंगे। मुख्यमंत्री ने 18 मई को सुकमा जिले में कोंटा विधानसभा क्षेत्र से बस्तर संभाग का दौरा शुरू किया था। तीन दिन में कोंटा, बीजापुर और नारायणपुर विधानसभा क्षेत्र का दौरा कर मुख्यमंत्री 20 मई की शाम राजधानी लौट गए थे।

इधर मुख्यमंत्री के बस्तर संभाग में दूसरे चरण के भेंट मुलाकात के कार्यक्रम को लेकर जिला प्रशासन ने तैयारी को लेकर पूरी ताकत झोंक दी है। चित्रकोट विधानसभा क्षेत्र के ग्राम बड़ांजी जो कभी टाटा प्रभावित रहा है यहां भूपेश बघेल किसानों से भेंट मुलाकात करेंगे। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद सरकार ने सबसे पहला निर्णय लोहंडीगुड़ा विकासखंड के दस गांवों के 1165 किसानों को स्टील प्लांट के लिए अधिगृहित जमीन लौटाने का लिया था। देश में उद्योग के लिए अधिगृहित जमीन किसानों को लौटाने का यह पहला मामला है। जमीन वापस करने के बाद मुख्यमंत्री दूसरी बार किसानों से मिलने लोहंडीगुड़ा विकासखंड जा रहे हैं।

जगह का चयन ऐसा कि सभी क्षेत्र तक पहुंच बना सकें

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के भेंट मुलाकात कार्यक्रम के लिए स्थल चयन इस तरह किया गया है कि वह ज्यादा से ज्यादा लोगों से मिल सकें। कोंटा विधानसभा क्षेत्र में कोंटा, छिंदगढ़ और सुकमा, बीजापुर विधानसभा क्षेत्र में कुटरू, बीजापुर व आवापल्ली तथा नारायणपुर विधानसभा क्षेत्र में छोंटेडोंगर, मर्दापाल व भानपुरी में आयोजित भेंट मुलाकात चौपाल के माध्यम से इन विधानसभाओं के लगभग दो तिहाई क्षेत्र के लोगों तक पहुंच बनाने में मुख्यमंत्री सफल रहे हैं।

आकस्मिक दौरा नहीं कर पाए

राजस्व निरीक्षक मंडल मुख्यालयों में मुख्यमंत्री के कार्यक्रम को आयोजित करने की नीति प्रशासन की रही है। हालांकि इसके चलते मुख्यमंत्री अभी तक तीन दिन के बस्तर संभाग प्रवास पर किसी गांव का आकस्मिक दौरा नहीं कर पाए हैं। नक्सल प्रभावित इलाका होने के कारण भी दक्षिण बस्तर में आकस्मिक निरीक्षण का कार्यक्रम नहीं रखा गया। संभावना जताई जा रही है कि बस्तर व जगदलपुर विधानसभा क्षेत्र में मुख्यमंत्री अप्रत्याशित रूप से किसी गांव में जाने का निर्णय कर सकते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close