जगदलपुर। इंद्रावती टाइगर रिजर्व (ITR) में एक नए बाघ मिलने की पुष्टि हुई है। यह बाघ की तस्वीर जंगल में घूमते हुए ट्रैप कैमरे में कैद हुई है। यहां आईटीआर विभाग के अधिकारी-कर्मचारी बाघ की मुवमेंट पर लगातार नजर बनाये हुए है। हालांकि किसी के शिकार या हमले की खबर नहीं है। आईटीआर के उपनिदेशक गणवीर धम्मशील ने बताया की इंद्रावती टाइगर रिजर्व में नए बाघ देखने को मिला है जिसकी पुष्टि WII, टाइगर सेल देहरादून द्वारा की गई है। यह टाइगर की उम्र तक़रीबन छह से सात वर्ष की है। हालांकि इस बाघ की लोकेशन को सुरक्षा की दृष्टि से गुप्त रखा गया है।

धम्मशील ने बताया की आईटीआर बाघों के रहवास के लिए उपयुक्त स्थल है, जहां बाघ के अलावा अन्य वन्यजीव भी निवास करते है। जिसमें से मुख्य रूप से वनभैंसा जो छत्तीसगढ़ राज्य का राजकीय पशु यहां पाया जाता है। साथ ही गौर, तेंदुआ, भालू, नीलगाय, हिरण, सांभर, जंगली सूअर इत्यादि वन्यप्राणियों का भी रहवास स्थल है। उन्होंने बताया की छत्तीसगढ़ के इंद्रावती टाइगर रिजर्व 2799.086 वर्ग किमी के भौगोलिक क्षेत्र में फैला हुआ है जो महाराष्ट्र एवं तेलंगाना के वनक्षेत्र से लगा हुआ है जो बाघों के विवरण के लिए उपयुक्त कारिडोर का काम करता है।

इंद्रावती टाइगर रिजर्व प्रबंधन वन्यजीवों की मानिटरिंग एवं सुरक्षा के लिए लगातार काम कर रहा है एवं मैदानी अमलों द्वारा फुट पेट्रोलिंग के माध्यम से निरंतर वन्यजीवों की सुरक्षा एवं निगरानी की जा रही है। गणवीर ने बताया की आईटीआर वन्यजीव संरक्षण के प्रति जागरूकता लाने के लिए ग्रामीणों के साथ मिलकर वन्यजीव संरक्षण का कार्य लगातार किया जा रहा है। जिससे वन्यजीव संरक्षण के साथ -साथ स्थानीय ग्रामीण एवं युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराया जा सके।

एक हफ्ते पहले आईटीआर में मिले थे तेंदुऐ के दो शावक

पिछले एक हफ्ते पहले आईटीआर के जंगलो में तेंदुए के दो शावक मिले थे। इन शावकों को आईटीआर के कर्मचारियों ने उनके माँ से मिलाने की भरपूर कोशिश की थी लेकिन वे असफल रहे। बाद में दोनों शावकों को रायपुर के जंगल सफारी में पूरी सुरक्षा के साथ भेज दिया गया था।

Posted By: Abhishek Rai

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close