जगदलपुर। अगले साल बस्तर में होने वाली सेना भर्ती रैली के लिए स्थानीय अधिक से अधिक युवाओं को प्रेरित करने शिक्षा विभाग ने पूरी ताकत झोंक दी है। जिले के सातों विकासखंड से 15 हजार युवाओं को भर्ती रैली में शामिल करने जिला प्रशासन ने लक्ष्‌य तय किया है। इस मामले में शिक्षा विभाग को युवाओं के लिए प्रशिक्षण शिविर के आयोजन और अन्य तैयारियों की जिम्मेदारी सौपी गई है।

इसी संदर्भ में दो दिन पहले विकासखंड मुख्यालय जगदलपुर में खंड स्त्रोत समन्वयक बीआरसी कार्यालय में विकासखंड के शासकीय और अशासकीय स्कूलों के प्राचार्य और संकुल समन्वयकों की बैठक आयोजित की गई। बैठक को संबोधित करत हुए कमांडर संदीप मुरारका ने सेना भर्ती के लिए युवाओं को किस तरह की तैयारियां कराई जाए इसे लेकर विस्तार से जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि वह सभी विकासखंडों में पहुंचकर प्रशिक्षण शिविर का अवलोकन कर चुके हैं। सेना भर्ती रैली को लेकर युवाओं का जुनून उत्साहजनक है। जगदलपुर विकासखंड में भी तैयारियां सही दिशा में चल रही हैं।

शारीरिक योग्यता सबसे जरूरी

मुख्य रूप से सेना में भर्ती के लिए शारीरिक योग्यता सबसे जरूरी है। बैठक में सूबेदार हीरा ने भी विस्तार से जानकारी दी। बैठक में शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने कोरोना से बचाव के जारी टीकाकरण अभियान में तेजी लाने के लिए गांवों में जागरूकता बढ़ाने शिक्षकों की भूमिका सक्रिय करने पर जोर दिया गया। सहायक विकास खंड शिक्षा अधिकारी भारती देवांगन, विकासखंड स्रोत समन्वयक गरुड़ मिश्रा के द्वारा जाति प्रमाण पत्र और सेना भर्ती के संबंध में आवश्यक जानकारी दी गई।

बैठक में विकासखंड जगदलपुर के समस्त शासकीय शासकीय हायर सेकंडरी हाई स्कूल के प्राचार्य के साथ सेना भर्ती के नोडल और संकुल समन्वयक उपस्थित थे। बैठक का संचालन संकुल समन्वयक पंकज जोशी व शरद श्रीवास्तव ने किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local