जगदलपुर। झीरम कांड सेदेश-दुनिया में सुर्खियों में आए दरभा में दो पूर्व नक्सली प्रेमी जोड़ियों की शादी कड़ी सुरक्षा इंतजाम समेत गाजे-बाजे के साथ हुई। इस मौके पर दरभा जनपद के विभिन्न् गांवों के दो हजार से अधिक ग्रामीण शरीक हुए। बस्तर कमिश्नर, आईजी, कलेक्टर एवं एसपी ने बारात में शामिल होकर जोड़ों को आशीर्वाद प्रदान किया।

मंगलवार दोपहर पूर्व नक्सली बुधराम व मानसाय तथा उनकी दुल्हन लक्षमति एवं पदमनी को ग्रामीण महिलाओं व पुरुषों द्वारा सजाया-संवारा गया। इस बीच गांव में उत्सव का नजारा दिखा। दोपहर तीन बजे बारात तहसील कार्यालय के सामने से रवाना हुई। खुली जीप में दोनों दूल्हे सवार हुए, जिन्हें देखने सड़क के आजू-बाजू भीड़ नजर आई। लोग अपने मोबाइल से दूल्हों की तस्वीरें लेते नजर आए।

इस दौरान पारंपरिक मुंडा बाजा व बैंड की धुन पर ग्रामीण युवकों ने नृत्य किया। कमिश्नर बस्तर दिलीप वासनीकर,आईजी एसआरपी कल्लूरी, कलेक्टर अमित कटारिया व एसपी आरएन दाश भी बारात में शामिल हुए। आतिशबाजी के साथ बारात दुर्गा मंदिर पहुंची। यहां बस्तरिया मोहरी की धुन पर हल्दी व अन्य वैवाहिक रस्में धुरवा एवं कोया समाज की परंपरानुसार पूरी की गई।

विवाह उपरांत हाईस्कूल मैदान में दोनों युगल जोड़ों ने एक-दूसरे को वरमाला पहनाया। इस दौरान अधिकारियों ने नवदांपत्य जोड़ों को उपहार समेत आशीर्वाद प्रदान किया। परिणय सूत्र में बंधने वाले दोनों प्रेमी युगल नक्सली संगठन में एलओएस सदस्य के रूप में रहे हैं। विवाह समारोह के दौरान सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की गई थी। दरभा के दोनों ओर एंटी लैंड माइंस व्हीकल समेत काफी संख्या में जवान तैनात किए गए थे।

ऐहतियातन दोनों ओर से आने वाले वाहनों की सघन जांच भी की गई। शादी में दरभा ब्लाक के छिंदावाड़ा, छिंदगुर, कामानार, कांदानार, कोलेंग, मुंदेनार समेत अन्य गांवों से काफी संख्या में ग्रामीण पहुंचे थे। इस दौरान आईजी बस्तर एसआरपी कल्लूरी ने मीडिया को बताया कि समाज के मुख्यधारा में लौटे नक्सल दंपती को नौकरी व आवास प्रदान किया जाएगा। इसके पूर्व बीते वर्ष समर्पित नक्सली कोसी एवं लक्ष्मण की संभाग मुख्यालय में ऐतिहासिक शादी रचाई गई थी।

Posted By: