जगदलपुर। चित्रकोट जलप्रपात में शुक्रवार दोपहर छंलाग लगाने वाली महिला का शव 26 घंटे के बाद एसडीआरएफ की टीम ने मौके से करीब 400 मीटर दूरी से बरामद किया। खबर लिखे जाने तक महिला की शिनाख्त नहीं की जा सकी है। शव में मंगलसूत्र देखे जाने पर महिला को शादीशुदा बताया जा रहा है। ज्ञात हो कि एक दिन पहले करीब 24 वर्षीया महिला ने प्रापत में अचानक छलांग लगा दी थी। उसे सुरक्षा समिति के नाविकां ने बचाने का प्रास भी किया था लेकिन उसका पता नहीं चल सका था।

चार बजे से लेकर शाम तक एसडीआरएफ की टीम भी बचाव कार्य में जुटी रही पर अंधेरा गहराने से सफल नहीं हो सकी थी। शनिवार को पांच घंटे की मशक्कत के बाद प्रपता से करीब 400 मीटर की दूरी पर महिला का शव बरामद किया गया है। एसडीओपी पंकज ठाकुर ने बताया कि आसपास के इलाके में महिला के शव की शिनाख्त करवाई जा रही है। अभी तक पहचान नहीं हो सका है। उसकी तस्वीर भी आसपास के थानों में भेजी जा रही है। शव पीएम के लिए भेजा गया है। पुलिस मर्ग कायम कर जांच में जुटी है। बताया जा रहा है कि महिला के गले में मंगल सूत्र है इससे उसके शादीशुदा होने की संभावना जताई जा रही है।

---

बालक आश्रम की पोताई करते समय छत से गिरकरकर्मी घायल

जगदलपुर। बस्तर जिले के दरभा ब्लाक अंतर्गत बालक आश्रम छिंदवाड़ा में रंगाई पोताई के दौरान छत से गिरकर आश्रम के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी मार्कडेय सिंह ठाकुर बुरी तरह घायल हो गया। उनके सिर पर गंभीर चोट लगी है और करीब तीन-चार पसलियां टूट गई है।आज डिमरापाल मेडिकल कालेज में उनसे मिलने आदिम जाति कल्याण विभाग संघ, छत्तीसगढ़ के महामंत्री प्रभूनाथ पाणिग्राही,

महिला प्रकोष्ट अध्यक्षा दीप्ति तिवारी, जिला सचिव हेमनाथ कश्यप, रमेश पांडे पहुंचे। संघ के पदाधिकारियों ने आरोप लगाया कि अधिकारी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों से दबाव बनाकर ऐसे जोखिम वाला काम करवाते हैं। जबकि शासन के द्वारा ऐसे कामों के लिए टेंडर निकाला जाता है।

आदिम जाति कल्याण विभाग संघ, छत्तीसगढ़ के महामंत्री प्रभुनाथ, पाणिग्राही ने बताया कि बस्तर में मुख्यमंत्री दौरे को देखते हुए रोड पर स्थित आश्रम-छात्रावासों में रंगाई-पोताई का काम जोर शोर से चल रहा है, जिसमें हमारे सभी चतुर्थ श्रेणी के भाइयों को काम में लगाया गया है, जहां तक मेरी जानकारी है। इसके लिए उन्हें अलग से कोई पैसा नहीं दिया जाता है, जबकि शासकीय भवनों की रंगाई पोताई का कार्य के लिए अलग से फंड आता है या टेंडर जारी किया जाता है। वर्तमान मं सहायक आयुक्त विवेक दलेला की भूमिका इस पूरे मामले में जांच के घेरे में है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close