जगदलपुर। संभागीय मुख्यालय जगदलपुर के गोल बाजार के ऐतिहासिक महत्व को जनसामान्य तक पहुंचाने की दिशा में जिला प्रशासन ने कार्रवाई शुरू कर दी है। गोल बाजार में जिस झंडा चौरा के नीचे बापू का भस्म कलश जमीन के नीचे दबाया गया है वहां पर 10 फीट ऊंची महात्मा गांधी की प्रतिमा स्थापित की जा रही है। इस प्रतिमा का अनावरण रविवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल करेंगे।

बताते चलें कि गोल बाजार के इस एतिहासिक धरोहर की जानकारी नईदुनिया ही लगातार प्रकाशित करता रहा है। वर्ष 1948 में महात्मा गांधी की शहादत के बाद उनकी चिता की राख को सैकड़ों कलशों में भरकर देश के विभिन्ना हिस्सों में भिजवाया गया था ताकि लोग बापू के भस्म कलश का दर्शन कर पुष्पांजलि अर्पित कर सकें।

ऐसा ही एक भस्म कलश बस्तर के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व. बिलखनारायण अग्रवाल दिल्ली से जगदलपुर लाए थे। यह कलश जगदलपुर के गोल बाजार के मध्य दर्शनार्थ रखा गया था। जनदर्शन उपरांत भस्म कलश को इंद्रावती में विसर्जित नहीं किया गया था। पुष्पांजलि व दर्शन पश्चात यह कलश गोल बाजार में ही गड्ढा खोदकर ससम्मान दबा दिया गया और उक्त स्थल के ऊपर झंडा चौरा बना दिया गया था।

72 वर्षों से निरंतर

महात्मा गांधी का यह भस्म कलश 73 वर्षों से गोल बाजार में झंडा चौरा के नीचे दबा हुआ है। बस्तर की 95 फीसदी आबादी इस महत्वपूर्ण व ऐतिहासिक स्थल से अब तक अनभिज्ञ रही। वर्ष 1998-99 में तत्कालीन कलेक्टर प्रवीर कृष्ण ने उक्त स्थल को संरक्षित करते हुए अहाता निर्माण कर गांधी उद्यान बनवाया था, परंतु बीते 22 वर्षों में ऐतिहासिक गांधी उद्यान के लिए कोई कार्य नहीं हो पाया।

प्रतिवर्ष गांधी जयंती और शहीद दिवस पर माता रुकमिणी आश्रम के संस्थापक पद्मश्री विभूषित धर्मपाल सैनी, आश्रम की छात्राएं व कई गांधीवादी यहां पहुंचते हैं। गांधी चौरा स्थल की साफ- सफाई करते हैं और बापू को पुष्पांजलि के बाद शांति पाठ व भजन कर लौट जाते हैं। यह क्रम शहर के गांधीवादियों द्वारा 72 वर्षों से निरंतर जारी है।

पुष्पांजलि के बाद शांति पाठ

बस्तर के गांधीवादी और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी परिवार के सदस्य पिछले 25 वर्षों से इस ऐतिहासिक स्थल को स्मारक के रूप में विकसित करने की मांग करते आ रहे थे, जो अब पूरी होने जा रही है। पद्मश्री धर्मपाल सैनी बताते हैं कि भारत में सिर्फ दो स्थान ही ऐसे हैं जहां पर बापू का भस्म कलश अभी भी जमीन में दबा हुआ है। पहला जगदलपुर के गोल बाजार में तथा दूसरा मध्यप्रदेश के धार जिला में नर्मदा नदी के किनारे धर्मपुर नामक स्थान पर, इसलिए यह स्थल ऐतिहासिक और पूजनीय है। उन्होंने गोल बाजार के गांधी उद्यान में गांधी बापू की प्रतिमा स्थापित किए जाने पर जिला प्रशासन के प्रति आभार व्यक्त किया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local