जगदलपुर। बडांजी थाना क्षेत्र के ग्राम कोठियागुड़ा निवासी किसान से टाटा द्वारा अधिग्रहीत भूमि वापस मिलने पर उससे प्राप्त राशि का गबन करने के मामले में पुलिस ने आरोपित पति-पत्नी को गिरफ्तार किया है।

टीआइ बडांजी अण नामदेव ने बताया कि किसान चालकी राम व उसके भाई स्व मनीराम निवासी बड़े परोदा के खाते की 20 एकड़ जमीन का वर्ष 2010 में टाटा इस्पात संयंत्र के लिए अधिग्रहण किया गया था। इसके एवज में प्रदान की गई मुआवजा राशि दोनों भाइयों के संयुक्त बैंक खाता सेंट्रल बैंक शाखा बेलर में 18 लाख 81 हजार 248 रूपये जमा करवाया गया था। किसान इस राशि में कुछ रूपये बीमा योजना में निवेश करना चाहता था।

इस बीच वर्ष 2012 में धरमपुरा निवासी अरुण कुमार धोते जो बजाज एलाइंस में काम करता था, उसे मुआवजा राशि मिलने की जानकारी हुई। वह कोठियागुड़ा पहुंचा और किसान से मिला। उसने किसान को प्रलोभन दिया कि इस राशि को बीमा कंपनी में जमा करने पर पांच साल में दोगुना हो जाएगा। इसके उपरांत दस्तावेजों में उसने केसिान से दस्तखत करवा लिए और अपनी पत्नी के खाते में 16 लाख 50 हजार रुपये डीडी बनवाकर ट्रांसफर करवा लिया। उसने किसान को रकम कंपनी में जमा होना बताया। यह रकम पांच साल के बाद पांच गुना अधिक मिलने का झांसा दिया।

धोते ने किसी प्रकार का रसीद भी किसान को नहीं दिया। इस रकम का पति-पत्नी ने गबन कर लिया। पांच साल पूरे होने के बाद चालकी राम आरोपित अरुण धोते के चक्कर काटने लगा पर वह उससे टालमटोल करता रहा। कई बार चक्कर काटने के बाद आखिरकार किसान ने इसकी शिकायत पुलिस से की। बडांजी पुलिस ने मामले में आरोपित पति-पत्नी को गिरफ्तार किया है। उनके कब्जे से एक कार भी जब्त किया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local