जगदलपुर। छत्‍तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में 15 अगस्त से वर्षा थमी हुई है पर अभी भी मुसीबत कम नहीं हुई है। बारसूर, पल्ली मार्ग पर पानी भरा हुआ है। इसके चलते बारसूर से सात किलोमीटर आगे तक पानी भरा हुआ है। जहां लोग जान जोखिम में डालकर बाइक पार भी कर रहे हैं।

बारसूर-नारायणपुर वाला ये रास्ता दंतेवाड़ा जिले से जोड़ने के लिए नई सड़क बनाई जा रही है। जिसका काम अभी भी अधूरा है, अबूझमाड़ की ये सड़क नक्सल गढ़ को भेदने वाली अहम सड़क है जो बीते चार दिनों से बंद है। स्थानीय ग्रामीणों ने अधिकारियों को बताया था, रपटानुमा बनाई जा रही पुलिया वर्षा में डूब जाएगी, यहां बड़ी पुलिया ही कारगार साबित होगी पर ठेकेदार और इंजीनियर ने अपने मुताबिक पुलिया बनाई जिसका खामियाजा अब ग्रामीण भुगत रहे हैं।

रास्ते में पानी भरा हुआ वहां सुरक्षा के इंतजाम नहीं: इंद्रावती के पास जहां पुलिया के ऊपर सड़क में पानी भरा हुआ है। वहां राजस्व या पीडब्ल्यूडी द्वारा सुरक्षा के कोई व्यवस्था नहीं की गई है। वहीं लोग खतरे के बीच आना जाना कर रहे हैं। बारसूर पल्ली मार्ग में डुडमा बाहर नाला और इंद्रावती के बैक वाटर से दंतेवाड़ा को नारायणपुर जोड़ने वाली सड़क बंद है। अभी दंतेवाड़ा में वर्षा 15 अगस्त से रुकी हुई है पर अभी भी बारसूर नारायणपुर मार्ग पर डुडमा के पास पुलिया के ऊपर तीन से चार फीट पानी भरा हुआ है। सबसे ज्यादा परेशानी का सामना सुरक्षा बलों को उठाना पड़ रहा है।

बाढ़ में बहे ग्रामीण का तीसरे दिन मिला शव

बीजापुर में सोमवार की सुबह गंगालूर गायतापारा निवासी सूरज हेमला मछली पकड़ने गया था। इस दौरान उसका पैर फिसलने से पानी के तेज बहाव में बह गया था।

नगर सैनिकों व ग्रामीणों के मदद से लगातार खोजबीन जारी रही। आखिरकार बुधवार सुबह घटना स्थल के कुछ दुरी पर युवा सूरज हेमला का शव एक झाड़ी में लटका पाया गया। गायता पारा के ग्रामीण व स्वजन शव को नदी से निकाल कर गंगालूर अस्पताल लाया गया, जहां पोस्टमार्टम होगा। सूरज हेमला का शव मिलते ही हेमला परिवार में मातम छा गया। पत्नी रीना हेमला की आशा निराशा में बदल गई।

वहीं पति का शव देख रीना का रो-रो कर बुरा हाल है। विदित हो कि सूरज हेमला 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस की सुबह बड़ी नदी में बह गया था। बीजापुर के तहसीलदार ध्रुव व टीआई पवन वर्मा द्वारा अपने अमला के साथ लगातार तीन दिन तक इस रेस्क्यू में लगे रहे। नगर सैनिक के प्लाटून कमांडेंट निर्मल साहू ने बताया कि नगर सैनिक के जवानों ने भी काफी प्रयास किया। बीजापुर से बोट मंगाकर खोजबीन की गई।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close