Jagdalpur Naxal News जगदलपुर। प्रतिबंधित व गैर कानूनी सीपीआइ नक्सल संगठन ने स्वीकार किया कि वर्ष 2021-22 में उन्हें बड़ा झटका लगा। इस अवधि में कुल 132 नक्सल कैडर की मृत्यु हुई है। इसमें से दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी इलाके के 89 नक्सली कैडर की मृत्यु की बात का नक्सलियों ने पीएलजीए की 22वीं वर्षगांठ के अवसर पर जारी किए गए प्रेस नोट में उल्लेख किया है।

पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज सुंदरराज पी. के अनुसार नक्सली पीएलजीए के अवसर में जारी किए गए इस पुस्तिका में नक्सल उन्मूलन के लिए क्रियान्वयन किए जा रहे कार्ययोजना के कारण उन्हें भारी नुकसान होने तथा नक्सली संगठन के सफाया होने के डर के कारण उनका बौखलाहट स्पष्ट नजर आ रही है।

जिस तरीके से जनता के मंशानुरूप पुलिस, सुरक्षा बल व स्थानीय प्रशासन नक्सलियों के गढ़ माने जाने वाले कोर इलाका में विगत तीन से चार वर्षों में काम किया है, नक्सलियों के पैर से जमीन खिसकते जा रही है। उल्लेखनीय है कि प्रतिवर्ष दिसंबर के पहले सप्ताह में दो से आठ तक सीपीआइ माओवादी संगठन के केंद्रीय सैन्य आयोग द्वारा पीएलजीए वर्षगांठ सप्ताह के रूप में मनाया जाता है।

साल भर में विभिन्ना मुठभेड़ों में उन्हें हुए नुकसान के संबंध में जानकारी प्रसारित की जाती है। 27 पन्नो की पुस्तिका में नक्सलियों द्वारा ग्रामीणों को भी पुलिस मुखबिर तथा क्रांतिकारी विरोधी आरोप लगाते हुए मारे जाने की बात का भी उल्लेख किया है।

यात्री बस में आगजनी की घटना में शामिल दो नक्सली गिरफ्तार

बीजापुर जिले में संचालित नक्सल विरोधी अभियान के तहत मंगलवार को थाना उसूर का बल सीतापुर से उसूर की ओर एरिया डामिनेशन पर निकला था। अभियान के दौरान टेकमेटला पहाड़ी के पास दो संदिग्धों को छिपते देखा गया। इस दौरान जवानों ने घेराबंदी कर पकड़ लिया और संदिग्धों से पूछताछ की।

उन्होंने अपना नाम नुपो हुंगी उसूर, नुपो गंगा थाना उसूर बताया वे उसूर थाने के नामजद आरोपित हैं। सीतापुर व उसूर के मध्य 15 सितंबर 2019 को कुशवाहा यात्री बस में आगजनी की घटना में शामिल थे। पकड़े गए संदिग्धों के विरुद्ध थाना उसूर में कार्रवाई उपरांत न्यायिक रिमांड पर न्यायालय बीजापुर पेश किया गया जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close