जगदलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

शहर में कुछ एलपीजी एजेंसियों के द्वारा होम डिलीवरी से बचने व खर्च बचाने के लिए जानबूझकर सर्विस नम्बर बंद रखने की शिकायत खाद्य विभाग को मिली है। विभाग ने घर पहुंच सेवा दुरूस्त रखने के लिए ऐसे डीलर्स पर निगरानी रखने के आदेश दिए हैं। बताया गया कि जनर्दशन के माध्यम से मिली शिकायत के अनुसार इंडेन, एचपी एलपीजी रसोई गैस के डीलर लोगों को घर पहुंच सेवा उपलब्ध कराने से बचने के लिए जानबूझकर अपने दफ्तर में मौजूद मोबाइल या लैंडलाइन फोन नम्बर बंद रखते हैं। लिहाजा व्यक्ति स्वयं पर्ची कटवाकर गोदाम जाकर सिलेंडर लेने मजबूर होता है। इसे संज्ञान में लेते विभाग ने प्रत्येक डीलर्स से घर पहुंच सेवा का ब्यौरा तलब किया है। साथ ही उन्हें कार्यालयीन अवधि में फोन नम्बर चालू रखने व रिसीव करने के आदेश दिए है।

जनदर्शन के माध्यम से आम उपभोक्ताओं द्वारा की गई शिकायत के अनुसार गैस एजेसियों में घर पहुंच सेवा के लिए कॉल करने पर कोई फोन रिसीव नहीं करता। कई अवसर पर जानबूझकर कनेक्शन बंद रखे जाने का जिक्र भी आवेदन में किया गया है। बताया गया कि गैस एजेंसी दफ्तर में जो नम्बर आम जनता के लिए चस्पा किए जाते हैं, वो दरअसल बंद होते हैं या जानबूझकर अटेंड नहीं किए जाते है। इसके पीछे असल वजह है यह है कि उपभोक्ताओं को घर पहुंच सेवा देने पर डीलर को अतिरिक्त खर्च उठाना पड़ता है। उन्हें इसके लिए अलग से वाहनें रखनी पड़ती है। साथ ही कर्मचारी को इसके लिए भुगतान करना पड़ता है। फ्यूल का व्यय भी वहन करना होता है। इन झंझटों से बचने का आसान उपाय उन्होंने फोन रिसीव नहीं करना या कनेक्शन बंद रखने को बना लिया है। खाद्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार गैस डीलर्स के नम्बरों की जांच की जाएगी। यदि वो बंद पाए गए या कॉल रिसीव नहीं किया गया तो लाइसेंस सस्पेंड करने की अनुसंशा की जाएगी। विभाग द्वारा गैसी एजेंसीज को जारी नोटिस में हिदायत दी गई है कि यदि वे अपने दफ्तर या मोबाइल नम्बर चेंज करें तो इसकी सूचना विधिवत अपने दफ्तर में सूचना फलक में उल्लेखित करें अन्यथा उन पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

कार्रवाई की जाएगी

अगर जानबूझकर उपभोक्ता का कॉल एजेंसी कर्मचारी नहीं उठाते हैं या कनेक्शन बंद रखते हैं तो इसे सेवा में कोताही का मामला समझा जाएगा। नियमानुसार एजेसियों को घर पहुंच सेवा ग्राहक को उपलब्ध करवाना ही होगा। अन्यथा कार्रवाई की जाएगी।

-कैलाश थारवानी, सहायक खाद्य नियंत्रक बस्तर