जगदलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

मेकॉज अस्पताल प्रबंधन द्वारा वार्ड ब्वाय के लिए रविवार को लिखित परीक्षा का आयोजन किया गया। परीक्षार्थियों को पहचानपत्र लाने की पूर्व सूचना नहीं दी गई थी। आधार कार्ड नहीं दिखाने पर दर्जनों अभ्यर्थियों को परीक्षा से जानबूझकर वंचित कर दिया गया। वहीं जल्दबाजी में परीक्षा लिए जाने से संभाग के दूर-दराज क्षेत्रों के सैकड़ों परीक्षार्थी परीक्षा देने से वंचित रहे।

मेकॉज अस्पताल में वार्ड ब्वाय के रिक्त पदों की भर्ती के लिए जिला खनिज न्यास निधि से 40 पदों की स्वीकृति दी गई थी। अगस्त माह में प्रबंधन द्वारा भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया गया था। 40 पदों के लिए संभाग से पांच हजार 200 आवेदकों ने आवेदन जमा किए थे। भर्ती निमयों को ताक पर रखकर अस्पताल प्रबंधन द्वारा परीक्षार्थियों को 10 दिन पूर्व परीक्षा तिथि की सूचना नही दी गई थी। आनन-फानन में रविवार को परीक्षा आयोजित की गई। शहर के पीजी कालेज, कंगोली सरस्वती विद्या मंदिर समेत 11 स्थानों पर परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। परीक्षा केंद्र कंगोली से वापस लौट रहे कुछ अभ्यथियों ने बताया कि उन्हें पहले यह नहीं बताया गया था कि परीक्षा कक्ष में पहचान पत्र लेकर आना अनिवार्य है। प्रतियोगियों को केंद्र पहुंचने पर आधार कार्ड दिखाने कहा गया जिनके पास आधार कार्ड नहीं था उन्हें प्रवेश नहीं करने दिया गया। कुछ लोग घर जाकर आधार कार्ड लेकर जब दोबारा पहुंचे तो उन्हें समय अधिक होने का हवाला देकर परीक्षा से वंचित कर दिया गया। अस्पताल प्रबंधन द्वारा परीक्षा उपरांत प्रावीण्य सूची के आधार पर चयन सूची जारी करने की बात कही जा रही है। वहीं नियुक्ति प्रक्रिया को लेकर लोगों में संदेह व नाराजगी देखी जा रही है। रविवार को कितने लोग परीक्षा में शामिल हुए। इसकी जानकारी जानबूझकर प्रबंधन ने छिपाई। इससे कहीं न कहीं गोलमाल होने का संदेह गहरा रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network