- कोलेंग रेंज में रोज खुल रही भ्रष्टाचार की परतें

- आक्रोशित कर्मचारियों ने बंद किया काम

नईदुनिया लगातार

जगदलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

कांकेर घाटी नेशनल पार्क के कोलेंग रेंज में भ्रष्टाचार की परतें लगातार खुल रही हैं लेकिन निदेशक या अन्य उच्चाधिकारियों के कान पर जूं नहीं रेंग रही है। अब पता चला है कि रेंज अफसर रामदत्त नागर पेट्रोलिंग कैंप बनाने के नाम पर करीब तीन लाख रुपये खा गए हैं। मौके पर कुछ भी काम नहीं हुआ। बस कागज चलाकर वाउचर पास करा लिया गया है। इससे पहले रिटर्निंग वाल के नाम गबन का खुलासा हो चुका है।

तालाब निर्माण में घोटाले की तैयारी की जा रही थी। लेंटाना सफाई में भी गड़बड़ी की शिकायतें हैं। इन सभी मामलों में विभागीय अफसरों की चुप्पी आश्चर्यजनक है। इससे रेंजर नागर के इन आरोपों को भी बल मिलता है कि उन्होंने तो लूट में अफसरों का हिस्सा पहले ही दे दिया है। जांच कौन करेगा। हालत यह है कि अब तक मजदूरों का मजदूरी भी नहीं दी जा रही थी। नईदुनिया के खुलासे के बाद रेंज अफसर ने अब पुराने भुगतान चुकता कर मामला संभालने की कवायद शुरू की है। हालांकि उनके इस काम में उन्हें स्टाफ का सहयोग नहीं मिल रहा है। कोलेंग रेंज में कोलेंग से भैंसादरहा के बीच पेट्रोलिंग कैंप का निर्माण करने की योजना बनाई गई थी। यह काम पिछले साल किया जाना था। सूत्र बता रहे हैं कि उस मार्ग में कहीं भी पेट्रोलिंग कैंप का निर्माण नहीं किया गया है। स्ट्रक्चर निर्माण के नाम पर करीब तीन लाख रुपये का गबन किया गया है। रेंज में मचे भ्रष्टाचार के बारे में पूछने पर कांगेर घाटी नेशनल पार्क के निदेशक अशोक पटेल कहते हैं कि मेरे पास कोई जानकारी नहीं आई है। मीडिया ने अखबारों में लगातार छप रही खबरों को लेकर उनसे सवाल किया तो कहने लगे मेरे पास पेपर कटिंग नहीं आई है। जबकि मामले ने इतना तूल पकड़ लिया है कि पूरे प्रदेश में खासकर वन विभाग के अफसरों और कर्मचारियों के बीच कोलेंग रेंज की लूट चर्चा का विषय बन गई है। रेंजर नागर की कारगुजारियों से नाराज उनके स्टॉफ ने ही उनका साथ छोड़ दिया है। रेंज के सभी काम बंद हो गए हैं।

सीसीएफ से मिला लिपिक संघ

लिपिक शिव पाठक से मारपीट मामले में सोमवार को लिपिक संघ ने सीसीएफ अभय श्रीवास्तव से मुलाकात की और उन्हें ज्ञापन सौंपा। सीसीएफ ने लिपिकों को समुचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। ज्ञात हो कि रेंजर नागर ने 14 फरवरी को अपने दफ्तर में लिपिक पाठक से मारपीट की थी। मामले में पुलिस भी जांच कर रही है। इस घटना से आक्रोशित लिपिकों ने वनमंडल का काम ठप करने की चेतावनी दी है।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket