फरसगांव (नईदुनिया न्यूज)।

कोरोना वायरस के चलते इन दिनों पूरे देश में हाहाकार मचा हुआ है सभी लोग इस महामारी से बचने के उपाय कर रहे, साथ ही इसकी रोकथाम के लिए भरपूर प्रयास कर रहे हैं। फरसगांव ब्लॉक के ग्राम पंचायत मांझीआठगांव में कोरोना वायरस के खौफ के चलते गांव में बाहर से आने वाले लोगों के लिए रोक लगा दी गई है। फरसगांव थाना अंतर्गत नेशनल हाइवे 30 पर स्थित ग्राम मांझीआठगांव में ग्रामीणों ने गांव में घुसने से पहले सड़क पर बैरिकेटिंग लगाकर उसमें पोस्टर लगा कर बाहर के लोगों का गांव में प्रवेश वर्जित कर दिया है।

ग्रामीणों ने कोरोना वायरस से होने वाले महामारी से बचाव के लोगों को पूरी तरह जागरूक रहने, बाहरी लोगों के संपर्क में न आने, घर में रहने तथा नियमों का पालन करने के मामले को लेकर विचारों को साझा किया और जनजागरूकता अभियान चलाया। शासन के आदेशानुसार पूरे देश में कोरोना से बचाव के लिए लॉकडाउन के नियमों का पालन करने का निर्णय लिया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 14 अप्रैल तक लॉकडाउन घोषणा के बाद ग्रामीणों ने निर्णय लिया कि गांव का कोई भी आदमी अब बाहर नहीं जायेगा और न ही किसी बाहरी आदमी को प्रवेश की इजाजत दी जाएगी। यहां तक कि गांव के लोग जो बाहर के राज्यों में काम करने गए हैं और जो वापस आ रहे हैं। उन्हें भी स्वास्थ्य जांच के बाद गांव में प्रवेश की अनुमति देने की बात कही है। ग्रामीणों का कहना है गांव के लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए गांव में प्रवेश पर रोक लगायी है। जो बाहर आ रहे हैं उन्हें जांच के लिए अस्पताल भेजा जा रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network