जगदलपुर। (नईदुनिया प्रतिनिधि)।

कोरोना वायरस से संक्रमण की रोकथाम के लिए लॉकडाउन की स्थिति में यहां बस्तर में भी जरूरतमंदों के सहयोग के लिए कोरोना के योद्धा के रूप में समाजसेवी आगे आने लगे हैं। शहर में समाजसेवी छगनलाल शर्मा ऐसे ही शख्स हैं जिन्होंने शहर में पांच दशक से संचालित अपने संस्थान अन्नपूर्णा थाली रेस्टोरेंट को गरीबों के निश्शुल्क भोजन के लिए खोल दिया है। बालाजी वार्ड स्थित अन्नपूर्णा थाली रेस्टोरेंट का संचालन छगनलाल शर्मा के पुत्र कमल शर्मा कर रहे हैं।

समाज और पिता की प्रेरणा से कमल शर्मा ने अपने चार साथियों रत्नेश बेंजामिन, रोहित शर्मा, राजा तिवारी और सहदेव साहू के साथ गरीबों को उनके ठिकाने तक भोजन के पैकेट पहुंचाने समूह बनाया है। इनका एक व्हाट्सअप ग्रुप भी है। शहर के जिस क्षेत्र से भी मदद की आवाज इन तक पहुंचती है तत्काल ये लोग उस जगह तक भोजन का पैकेट लेकर पहुंचते हैं। जिला प्रशासन से इस सेवा कार्य के लिए इन्होंने बकायदा अनुमति ले रखी है। पिछले चार दिनों से इनका अभियान जारी है। गुरूवार को बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, मेटगुड़ा, नयामुंडा आदि कई क्षेत्रों में कमल शर्मा और उनकी टीम ने लोगों को भोजन कराया। नईदुनिया से चर्चा में कमल शर्मा का कहना था कि मानव सेवा ही प्रभु की असली सेवा है। शहर में कई ऐसे लोग हैं जो रिक्शा चलाकर, भीख मांगकर, मजदूरी करके दिन भर की मेहनत के बाद दो जून की रोटी का जुगाड़ कर पाते थे। कोरोना के संकट ने इनके समक्ष जीवकोपार्जन का संकट पैदा कर दिया है।

शासन-प्रशासन लोगों की पूरी मदद कर रहा है। समर्थवान लोगों को भी ऐसे लोगों की मदद के लिए आगे आने की जरूरत है। कमल शर्मा ने बताया कि जब तक कोरोना से जंग जारी रहेगी और लॉकडाउन की स्थिति बनी रहेगी वे लोग और उनका संस्थान जरूरतमंदों की मदद करता रहेगा। मूलतः नागौर राजस्थान के रहने वाले कमल शर्मा के पिता छगनलाल शर्मा पांच दशक पहले बस्तर आ गए थे। कमल बताते हैं कि पिता का एक ही कहना था कि संकट की घड़ी में कोई गरीब भूखे पेट मत सोए। इसके लिए अन्नपूर्णा को हमेशा खुला रखना। परिवार के लोग पिता की आज्ञा का पालन कर रहे हैं।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket