नारायणपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

देश के विभिन्न हिस्सों में मजदूरी करने गए जिले के 60 गांव के करीब 187 मजदूर कोरोना के भय से जिले में स्थित अपने घरों में पहुंच गए हैं। इसकी सूचना के बाद इन्हें विशेष निगरानी में रखा गया है। मालूम हो कि गांव से पलायन करने वाले मजदूरों की सटीक जानकारी प्रशासन के पास नहीं थी। मजदूरों के वापस आने पर ग्रामीणों और पंचायत पदाधिकारियों की सूचना पर ऐसे 187 लोगों को होम आइसोलेशन में रखा गया है। पंचायतों में रखे पलायन पंजी के पन्ने कोरे के कोरे धरे हैं। विभिन्न शहरों में काम करने गए यह 187 मजदूर अलग-अलग तारीखों में लौटे हैं। इसके साथ ही विदेश से आए चार लोग भी नारायणपुर में होम आइसोलेशन में हैं, जिनकी होम आइसोलेशन की अवधि पूर्ण होने वाली है।

नोवल कोरोना वायरस नियंत्रण एवं रोकथाम समीक्षा के लिए गठित जिला स्तरीय कोर कमेटी की बैठक में यह जानकारी दी गई। इन सभी के घरों पर होम आइसोलेशन के स्टीकर लगाए गए हैं। कलेक्टर पीएस एल्मा ने कहा कि अब जरूरी चीजों की दुकानें जैसे किराना, सब्जी-भाजी, दूध प्रात? 10 बजे से 3 बजे तक खुली रहेंगी। अस्पताल के पास के दो मेडिकल दुकानों को छोड़कर अन्य मेडिकल प्रात? 10 से सांय 3 बजे तक खुले रहेंगे। कलेक्टर ने आश्रम शालाओं की साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने पर बल दिया। कलेक्टर ने जिला चिकित्सालय में भर्ती मरीजों के सहयोगियों के लिए भी भोजन की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने जिले की जनता खासकर ग्रामीण क्षेत्र के रहवासियों से कहा कि बाहर से वापस लौटने वालों की जानकारी तत्काल सरकारी अधिकारी या ग्राम सचिवों को दें। एसपी मोहित गर्ग ने कहा कि अधिकारी अपने-अपने कर्मचारियों जो आवश्यक कार्य के लिए ड्यूटी लगाई गई है, उनसे कहें कि वे जारी पास को लटकाकर चलें। साथ ही आवश्यक परिवहन पर भी पास लगाएं। उन्होंने ग्रामीण इलाकों में काम करने वाले स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की भी सूची देने कहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket