दंतेवाड़ा। नईदुनिया प्रतिनिधि।

कोरोना वायरस के दंश से बचने प्रशासन और स्वास्थ्य अमला हर तरह से नाकेबंदी कर रहा है। अब संदिग्धों के साथ उनके घरों को भी निगरानी में रखा जा रहा है। इसके लिए बकायदा संबंधितों के दरवाजे और दीवार में आइसोलेशन अवधि का उल्लेख करते प्रवेश निषेध का पर्चा चस्पा किया जा रहा है। उनके घरों से आम लोगों को दूर रहने की हिदायत के साथ संबंधित का नाम, पता और आइसोलेशन अवधि का उल्लेख है।

अब तक जिले में प्रभावित राज्य और देश से लौटे 550 से अधिक लोगों को चिन्हित किया जा चुका है। कमाने- खाने और शिक्षा आदि के लिए दीगर प्रदेशों में गए जिले के लोग अब अपने घर लौट रहे हैं। इनका आंकड़ा दिनों- दिन बढ़ता जा रहा है। गुरूवार को कोरोना वायरस संदिग्धों की संख्या जिले में 534 हो गई जबकि एक दिन पहले बुधवार को 274 लोग ही होम आइसोलेट थे। जानकारी के मुताबिक सर्वाधिक लोग दक्षिण भारत के विभिन्न राज्यों से लौटे हैं। ग्रामीणों ने मिर्ची तोड़ने, बोरवेल मशीन आदि में काम के लिए दंतेवाड़ा से पलायन किया था। जैसे से वहां कोरोना वायरस की जानकारी हुई, अपने गांव लौट रहे हैं।

विदेश से लौटे हैं 22 लोग

जिले में 22 ऐसे लोगों को चिन्हित किया गया है, जो हाल ही में प्रभावित देशों की यात्रा से लौटे है। इन्हें जिला हॉस्पिटल और घरों में आइसोलेट किया गया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम की नजर इन पर बनी हुई है। ये लोग शिक्षा, सेमीनार और भ्रमण के बाद कोरोना वायरस प्रभावित देशों से लौटे हैं।

----

संदिग्धों को रखने पांच आइसोलेशन वार्ड

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक जिले में कोरोना वायरस संदिग्धों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इसे देखते होम आइसोलेशन के साथ ही हॉस्पिटलों में आइसोलेशन वार्डों की संख्या बढ़ाई जा रही है। सरकारी हास्पिटल भवन के अलावा हास्टल- आश्रम शालाओं का उपयोग किया जाएगा। एक जानकारी के अनुसार जिला हॉस्पिटल में छह बिस्तर के साथ जावंगा में 10 बिस्तरा विशेष आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। अब जिला हॉस्पिटल में 20, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कटेकल्याण में 10 और बचेली- किरंदुल अपोलो हॉस्पिटल में 50-50 बिस्तर के आइसोलेशन वार्ड तैयार किए जा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग को आशंका है कि जिले में संदिग्ध मरीजों की संख्या और बढ़ेगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket