जगदलपुर। नईदुनिया। Jagdalpur News सुकमा जिले के धुर नक्सल प्रभावित इलाकों में पंचायत चुनाव के लिए मतदान कराने गए 38 मतदान केंद्रों के 78 मतदान कर्मियों को गुरुवार को तीन दिन बाद वायुसेना के हेलीकॉप्टरों की मदद से सुरक्षित बाहर निकाला गया। इस इलाके में अब भी 14 मतदान कर्मी सुरक्षा बलों के कैंपों में फंसे हुए हैं। इन्हें शुक्रवार को बाहर निकाला जाएगा।

बस्तर आइजी सुंदरराज पी ने कहा कि सुरक्षा हमारी पहली प्राथमिकता है। इन मतदान दलों को हेलीकॉप्टर से निकालने की योजना पहले से ही थी परंतु बीते दो दिनों तक बस्तर में मौसम साफ नहीं था इसलिए थोड़ी देर हुई। गुरुवार को मौसम कुछ देर के लिए खुला। इस बीच करीब चार घंटे तक हेलीकॉप्टरों ने जंगल के कई फेरे लगाए और 78 कर्मचारियों को बाहर निकाला। शाम ढलने के बाद ऑपरेशन रोक दिया गया है।

अब ज्यादा लोग बाकी नहीं हैं। जो अब भी अंदर हैं वे सुरक्षाबलों के कैंपों में हैं और सुरक्षित हैं। शुक्रवार को सभी बाहर आ जाएंगे। गुरुवार को मतदान कर्मियों के साथ ही मतदान सामग्री भी निकाली जा चुकी है। जो बचे हैं उनके लिए हेलीकॉप्टर न मिला तो भी दिक्कत नहीं है। कम लोग हैं तो रोड ओपनिंग पाटियों को लगाकर भी उन्हें निकाला जा सकता है।

परिजनों में खुशी की लहर

सुकमा अति नक्सल प्रभावित इलाका है। नक्सली यहां हर बार चुनाव बहिष्कार का एलान करते हैं और इसके लिए हिंसा पर आमादा रहते हैं। ऐसे में यहां पहुंचे मतदान कर्मियों ने दिलेरी से चुनाव संपन्न कराया। उनके वहां से निकल न पाने से उनके स्वजन परेशान थे। गुरुवार को जब मतदान कर्मी हेलीकॉप्टर से दोरनापाल में उतरे तो परिजनों में खुशी की लहर देखी गई। ज्ञात हो कि इस इलाके में इससे पहले वायुसेना के हेलीकॉप्टर को भी नक्सली नीचे गिरा चुके हैं।

Posted By: Hemant Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close