Jagdalpur News: जगदलपुर। अवर्णनीय व बेजोड़ प्राकृतिक अनुभव का स्थल कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान में पहली बार पक्षी सर्वेक्षण किया जाएगा। 25 से 27 नवंबर तक होने वाले इस सर्वेक्षण में देश के 11 राज्यों जिनमें छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्रप्रदेश, गुजरात, केरल, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, राजस्थान आदि के 56 पक्षी विशेषज्ञ शामिल होंगे। पक्षी सर्वेक्षण के लिए राष्ट्रीय उद्यान में 18 कैंप बनाए गए हैं। जहां 32 टीमें सर्वेक्षण का काम करेंगी। छत्तीसगढ़ शासन, बर्ड काउंड इंडिया व वाइल्ड लाइफ आफ छत्तीसगढ़ के सहयोग से सर्वेक्षण कार्य को प्रस्तावित किया गया है। उल्लेखनीय है कि पहाड़ी मैना को छत्तीसगढ़ में राजपक्षी का दर्जा दिया गया है। कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान पहाड़ी मैना का सबसे प्रमुख रहवास क्षेत्र है। माना जा रहा है कि राष्ट्रीय उद्यान प्रबंधन की सहायता से इस सर्वेक्षण से इको-टूरिज्म में बर्ड वाचिंग के नए अध्याय खुलेंगे।

पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान के निदेशक धम्मशील गणवीर ने बताया कि पक्षी सर्वेक्षण से बस्तर ही नहीं प्रदेश में पर्यटन के क्षेत्र को बढ़ावा देने में काफी मदद मिलेगी। जगदलपुर मध्य भारत के जैव विविधता का एक अनोखा खजाना है। जिला मुख्यालय जगदलपुर से 27 किलोमीटर दूर दरभा मार्ग पर स्थिति कांगेर घाटी अपने प्राकृतिक सौंदर्य जैव विविधता रोमांचक गुफाओं के लिए देश-विदेश में प्रसिद्ध है। यहां भारत के पश्चिमी घाट व पूर्वीय हिमालय में पाए जाने वाले पक्षियों को भी देखा गया है। देश के विभिन्ना परिदृश्यों में पाए जाने वाले पक्षियों का कांगेर घाटी से संबंध व उनके रहवास को समझने का प्रयास विशेषज्ञों द्वारा किया गया है। इसी कड़ी में एक प्रयास कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान में पक्षी सर्वेक्षण के जरिए किया जा रहा है। सर्वेक्षण में घाटी के पक्षी रहवासों का निरीक्षण कर यहां पाए जाने वाले पक्षियों की जानकारी एकत्र की जाएगी।

इनका कहना है

कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान पूर्वी व पश्चिमी घाट के बीच स्थित है। यहां की जलवायु पक्षियों के रहवास के लिए उपयुक्त मानी गई है। ठंड के दिनों में प्रवासी पक्षी भी यहां आते हैं। पहली बार इस राष्ट्रीय उद्यान में पक्षी सर्वेक्षण किया जाएगा इससे कई नई जानकारियों के भी सामने आने की संभावना है।

- धम्मशील गणविर, निदेशक कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान जगदलपुर

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close