जगदलपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। बस्तर की एक युवती को मेडिकल कालेज में एमबीबीएस सीट में एडमिशन दिलाने का झांसा देकर 22 लाख रुपये की ठगी के मामले में बोधघाट पुलिस ने दो आरोपितों को दबोचा है। ये देनों उत्तर प्रदेश व महाराष्ट्र के ठग गिरोह के सदस्य हैं। गिरोह के सदस्य पंकज दुबे निवासी हेमंत विहार थाना-बर्रा जिला कानपुर (उत्तरप्रदेश) व चंद्रशेखर अत्राम निवासी लाभावाड़ी थाना वाड़ी जिला नागपुर महाराष्ट्र को उनके ठिकानों से गिरफ्तार कर यहां लाया गया है। दोनों को जेल भेज दिया गया है।

सीएसपी हेमसागर सिदार ने बताया है कि अगस्त से दिसंबर 2017 के दौरान प्रार्थिया की पुत्री को मेडिकल कालेज नागपुर में एमबीबीएस सीट में एडमिशन कराने का झांसा देकर अलग-अलग किश्तों में आरोपित पंकज दुबे व चंद्रशेखर राव ने अपने आप को मेडिकल कालेज का अधिकारी बताकर 22 लाख रुपये की ठगी की थी। प्रार्थिया ने ठगी का अंदेशा होने पर रिपोर्ट दर्ज कराई।

रिपोर्ट पर आरोपितों के विरुद्ध थाना बोधघाट में अपराध दर्ज किया गया। प्रकरण में थाना प्रभारी लालजी सिन्हा के नेतृत्व में टीम गठित कर आरोपित की पतासाजी की रही थी। इस दौरान ज्ञात हुआ कि आरोपित नागपुर में देखे गए हैं। सूचना पर सहायक उप निरीक्षक सतीश यादव के नेतृत्व में टीम गठित कर नागपुर रवाना किया गया था। वहां से दोनों आरोपित पंकज दुबे व चंद्रशेखर राव अत्राम को गिरफ्तार कर जगदलपुर लाया गया। पूछताछ में दोनों ने अपना अपराध स्वीकार किया है।


नीट परीक्षा में शामिल विद्यार्थियों से करते थे संपर्क

जांच में यह भी स्पष्ट हुआ कि मूलत: कानपुर निवासी आरोपित पंकज दुबे ने बीटेक तक की पढ़ाई की है। वहीं शेयर मार्केट का भी काम करता है। दूसरा आरोपित चंद्रशेखर राव अत्राम सिविल इंजीनियर व ठेकेदारी का काम करता है। यह दोनों आपस में मिलकर मेडिकल कालेज में एडमिशन के लिए होने वाली नीट परीक्षा में शामिल हुए परीक्षार्थियों की सूची लेकर सबंधित परीक्षार्थियों के मोबाइल नंबरों पर संपर्क कर अलग-अलग मेडिकल कालेज में एडमिशन दिलाने के नाम पर संबंधित परीक्षार्थी अथवा उनके अभिभावकों को मोबाइल फोन के माध्यम से संपर्क करते थे।

उन्हें मेडिकल कालेज में एमबीबीएस सीट में एडमिशन दिलाने का झांसा देकर उनसे रुपये का सौदा करते थे। इस मामले में भी प्रार्थिया की पुत्री को मेडिकल कालेज नागपुर में एमबीबीएस सीट में एडमिशन दिलाने के नाम पर 22 लाख रुपए की ठगी कर लिया। कार्रवाई में निरीक्षक लालजी सिन्हा, उप निरीक्षक प्रमोद ठाकुर, सहायक उप निरीक्षक सतीश यादव, प्रधान आरक्षक नितेश मेश्राम, आरक्षक गायत्री तारम, तोमेश्वर चंद्राकर की अहम भूमिका रही।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close