जगदलपुर। Jagdalpur News: जब इंसान को लालच हो जाए तो वो किसी भी हद तक जा सकता है। लालच ही जो भाई- भाई में मां- बेटे में दीवार खड़ा कर देता है। कुछ ऐसा ही मामला जगदलपुर में देखने को मिला, जब अपने पिता की संपत्ती में बेटी को ही बेदखल कर दिया गया। वो बेटी अब सूरत, गुजरात से न्याय मांग रही है और उसके लिए उसने कोतवाली में शिकायत दर्ज कराई है। जमीन की जो खरीदी बिक्री की गई है उसे रद्द करते हुए शून्य घोषित किया जाए।

मामला जगदलपुर के प्रतापगंज पारा का है जंहा शीट नंबर 92 प्लाट न.38 की 2042 वर्ग फ़ीट जमीन की खरीदी बिक्री की गई,और इसमें उस बेटी का नाम गायब कर दिया गया और रजिस्ट्री कर दी गई। अपने पिता स्व.जेठमल खत्री और माता स्व.सगन देवी खत्री की वह एकलौती पुत्री मोहनी महेंद्र वारडे जो अभी सूरत में रहती है और उसके माता के निधन के बाद उसके पिता स्व.जेठमल खत्री ने दूसरी शादी लक्ष्मी देवी से की और उनके दो पुत्र जिनमे देवेंद्र खत्री और नाबालिक पुत्र चिराग खत्री है।

इन सभी मे मिलकर उक्त जमीन को जगदलपुर निवासी अशोक राठी और उनके परिजनों के नाम से विक्रय 31 अगस्त को 1 करोड़ 4 लाख पैतालीस हजार रुपये में कर दी। पीड़िता मोहनी देवी के पूत्र विजेंद्र कुमार वारडे जो अभी अपनी माता की ओर से शिकायकर्ता है उन्होंने जो जानकारी दी वो काफी चौकाने वाले है उन्होंने सूरत से आकर पतासाजी की और बताया कि जिन लोगो ने कूट रचना करते हुए रजिस्ट्री की है वो फर्जी है, रजिस्ट्री करते समय चिराग खत्री को बालिक बताया गया जबकि चिराग खत्री अभी 16 साल का नाबालिक है और उनके पास प्रमाण भी मौजूद है।

जन्म प्रमाण प्रमाण पत्र, स्कूल और निजी क्लिनिक की सर्टीफिकेट भी बता रहा है कि की कैसे सभी लोगों ने मिलकर आधार कार्ड से छेड़छाड़ कर अशोक राठी को जमीन बेच दी...जबकि अशोक राठी को भी यह जानकारी है कि चिराग राठी अभी नाबालिक है। उन्होंने मेरी माता के साथ तो छल किया ही है साथ ही रजिस्ट्रार को भी अंधेरे में रखा है। उन्होंने कोतवाली में शिकायत करते हुए कहा है कि उक्त जमीन की जो रजिस्ट्री की गई है उसे रद्द करते हुए शून्य घोषित किया जाए। साथ भी सभी लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया जाए और मेरी माता मोहनी देवी को उनके पिता की संपत्ति में हक़ मिले। इधर सूरत से हुई शिकायत के बाद खरीददार अशोक राठी ने बताया कि उन्हें इन सब चीजों कि जानकारी नही है। खत्री परिवार ने जो दस्तावेज दिये थे उसे सही माना गया और मैने रजिस्ट्री करवा ली।

फर्जीवाड़े से हुई रजिस्ट्री के संबंध में जगदलपुर सब रजिस्ट्रार भुआर्य ने बताया कि कोतवाली थाना को रजिस्ट्री संबंधी सभी दस्तावेजो को दे दिया गया है और जो भी गलत दस्तावेज उनके द्वारा लगाया है तो उनके ऊपर ही मामला दर्ज होगा और पूरे मामले को न्ययालय ही जांच करेगी। वहीं सब पूरे मामले में जगदलपुर सिटी कोतवाली प्रभारी ने पीडिता के पुत्र द्वारा दी गई शिक़ायत के बाद जांच शुरू कर दी है और कहा है मामले की विवेचना की जा रही है और जो भी दोषी होगा उनको गिरफ्तार किया जाएगा। अब इंतेज़ार है पुलिस की जांच का, की सूरत में बैठी बेटी को उसके पिता की संपत्ति में हक़ मिलता है या नही।

Posted By: Himanshu Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस