जगदलपुर। नक्सल प्रभावित बस्तर संभाग में लोकसभा और विधानसभा चुनाव के दौरान सुरक्षा की चुनौती होती है। यहां चुनाव कराने के लिए निर्वाचन आयोग सुरक्षा की जानकारी मांगता है। हालांकि पंचायत चुनाव में यहां अलग से फोर्स नहीं भेजी जाएगी। बस्तर आईजी सुंदरराज पी ने नईदुनिया से कहा कि पंचायत चुनाव के लिए अलग से फोर्स कभी नहीं भेजी गई। संभाग में तीन चरणों में चुनाव हैं।

दो-दो ब्लॉक में एक दिन में चुनाव होंगे इसलिए दिक्कत की कोई बात नहीं है। हमारी तैयारी पूरी है। संभाग में जो बल उपलब्ध है उसे ही अलग-अलग चरणों में शिफ्ट कर सुरक्षा दी जाएगी। ज्ञात हो कि रविवार को ही निर्वाचन आयुक्त ठाकुर रामसिंह ने जगदलपुर में प्रशासन और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक लेकर पंचायत चुनाव की समीक्षा की। बैठक में बस्तर आईजी समेत सुरक्षा से जुड़े तमाम अफसर मौजूद थे।

इस बैठक के बाद आईजी सुंदरराज पी ने संभाग के सभी पुलिस अधीक्षकों की बैठक लेकर रेंज में कानून व्यवस्था की समीक्षा की। बैठक के बाद आईजी ने बताया कि 2020 में नक्सल विरोधी अभियान की क्या तैयारी की गई है यह चर्चा की गई।

पंचायत चुनाव के दौरान नक्सल चुनौती से निपटना पुलिस के लिए इसलिए भी अहम है क्योंकि नक्सलियों ने पहले ही पंचायत चुनाव के बहिष्कार का एलान कर रखा है। बीजापुर, सुकमा और अबूझमाड़ के अंदरूनी इलाकों में कई पंचायतों से खबर आ चुकी है कि वहां कोई प्रत्याशी ही नहीं मिल रहा है।

ऐसे में आईजी की इस बैठक की अहमियत समझी जा सकती है। आईजी ने पंचायत चुनाव के दौरान नक्सल गड़बड़ी रोकने के लिए सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं। बैठक में बस्तर एसपी दीपक झा, दंतेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव, कांकेर एसपी भोजराज पटेल, बीजापुर एसपी दिव्यांग पटेल, सुकमा एसपी शलभ सिन्हा, कोंडगांव एसपी सुजीत कुमार व नारायणपुर जिले के डीएसपी राजेश देवांगन मौजूद थे।

महिला सुरक्षा पर जोर-

रेप की घटनाओं के बाद देशभर में उठे आक्रोश को देखते हुए डीजीपी ने महिला सुरक्षा पर खास हिदायत देने को कहा है। आईजी ने बैठक में महिला और बालिका सुरक्षा की कार्ययोजना तय करने को कहा। इसके साथ ही बीते साल नक्सल अभियान में मिली सफलता की चर्चा हुई और इस साल के लिए कार्ययोजना पर बात की गई। अपराधों की रोकथाम, सड़क सुरक्षा की कार्ययोजना पर भी चर्चा की गई।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket