जगदलपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Kirandul Passenger Train: किरंदुल-कोत्त्तावालसा रेललाइन पर मंगलवार को विशाखापटनम से किरंदुल आ रही पैसेंजर स्पेशल ट्रेन (08551) की एक बोगी पटरी से उतर गई। कोत्त्तावालसा से 85 किलोमीटर दूर अरकू रेलखंड (आंध्रप्रदेश) के शिवलिंगपुरम स्टेशन यार्ड में अप लाइन पर सुबह साढ़े नौ बजे हुई इस दुर्घटना में ट्रेन की गति काफी धीमी (10 किलोमीटर प्रति घंटा) होने से कोई हानि नहीं हुई। घटना उस समय हुई जब ट्रेन स्टेशन में घुस रही थी।

यार्ड क्षेत्र में एक लाइन से दूसरी लाइन में जाने के दौरान पीछे से छठवें नंबर की जनरल बोगी के पहिए पटरी से उतर गए। ड्रायवर द्वारा तुरंत गाड़ी रोक लेने से बड़ी दुर्घटना टल गई। घटना की जानकारी मिलते ही रेलमंडल मुख्यालय में अधिकारियों में कुछ समय के लिए हडकंप मच गया। बाद में किसी यात्री के घायल नहीं होने की सूचना मिलने पर अधिकारियों ने राहत की सांस ली।

घटना की सूचना मिलने के ढ़ाई घंटे के भीतर ही रेलमंडल प्रबंधक अनूप सतपथी वरिष्ठ अधिकारियों के साथ घटनास्थल पहुंच गए थे। दोपहर सवा दो बजे बोगी को पटरी पर वापस लाने के बाद ट्रेन को अरकू के लिए रवाना किया गया। देर शाम समाचार लिखे जाने तक अप लाइन जिसमें यह दुर्घटना थी उसे ट्रेनों के आवागमन के लिए नहीं खोला गया था। वाल्टेयर रेलमंडल से आई अधिकारियों की टीम ने घटना की जांच शुरू कर दी है।

इधर मंगलवार को ट्रेन को अरकू में ही रद कर दिया गया। बताया गया कि इस गाड़ी को वहीं से वापस विशाखापटनम भेज दिया जाएगा। इधर किरंदुल से जाने वाली पैसेंजर स्पेशल ट्रेन भी विशाखापटनम चली गई है। दोनों रैक विशाखापटनम में होने से बुधवार को किरंदुल-विशाखापटनम पैसेंजर स्पेशल ट्रेन की सेवा उपलब्ध नहीं होगी।

ओएचइ तार टूटी ट्रेनें हुई प्रभावित

किरंदुल-कोत्त्तावालसा रेललाइन के किरंदुल रेल सेक्शन में कावड़गांव-डाकपाल स्टेशन के बीच मंगलवार को डाउन लाइन में ओएचई (ओवर हेड इलेक्ट्रिक) तार टूटने से चार घंटे से अधिक समय तक रेल आवागमन प्रभावित रहा। घटना सुबह सवा नौ बजे हुई। घटना के समय वहां से मालगाड़ी गुजर रही थी। घटना के डेढ़ घंटे बाद दंतेवाड़ा से रेलवे की ओएचइ कार लेकर मौके पर पहुंच रेलवे के तकनीशियनों में लाइन ठीक की। दोपहर एक बजे ओएचई बहाल होने पर रेल आवागमन दोबारा शुरू हुआ। ज्ञात हो कि किरंंदुल रेलखंड में दस दिनों के भीतर ओएचई तार टूटने की यह दूसरी घटना है।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close