जगदलपुर। सांसद दीपक बैज के बस्तर की रेल मांगों को लेकर संसद में मामला उठाने और मांगें अनुसनी करने पर यहां स्टेशन में सत्याग्रह करने का असर दिखाई देने लगा है। रेलवे बोर्ड ने बस्तर से सबसे लंबी दूरी की यात्री ट्रेन हावड़ा-जगदलपुर समलेश्वरी एक्सप्रेस को नया रैक देने का निर्णय लिया है। यह ट्रेन 15 फरवरी से एलएचबी (लिंक हाफमान ब्रुश) कोच के रैक के साथ दौड़ेगी। सप्ताह में चार दिन चलने वाली समलेश्वरी एक्सप्रेस को नियमित चलाने का फैसला भी लिया गया है। रेलवे बोर्ड के आदेश पर इस्ट कोस्ट रेल जोन भुवनेश्वर ने समलेश्वरी एक्सप्रेस के नियमित और नए एलएचबी कोच के रैक के साथ संचालित करने की जानकारी इस ट्रेन के मार्ग पर आने वाले सभी स्टेशनों को जारी कर दी है।

ज्ञात हो कि इसके पहले बस्तर से चलने वाली भुवनेश्वर-जगदलपुर हीराखंड और किरंदुल-विशाखापटनम एक्सप्रेस ट्रेन के पुराने रैक को बदलकर जर्मन तकनीक से निर्मित एलएचबी कोच दिए जा चुके हैं। समलेश्वरी तीसरी यात्री ट्रेन होगी जिसे इस कोच का रैक दिया जा रहा है। जर्मन तकनीकी पर निर्मित एलएचबी कोच में सीटों की संख्या पुराने आइसीएफ कोच के मुकाबले अधिक है। कोच की लंबाई भी ज्यादा है और इसकी रफ्तार भी सामान्य कोच से अधिक होती है। सुरक्षा मानकों पर भी ये ज्यादा सुरक्षित माने गए हैं।

विदित हो कि समलेश्वरी एक्सप्रेस का संचालन मार्च 2020 से बंद था। स्थानीय मांग पर इसे शुरू करने का आदेश 23 सितंबर 2021 को रेलवे बोर्ड ने जारी कर दिया था लेकिन इसका परिचालन शुरू नहीं किया जा रहा था। जिसके विरोध में सांसद दीपक बैज ने संसद के शीतकालीन सत्र में इस मुद्दे को उठाया था। इसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होने पर 28 दिसंबर 2021 को यहां स्टेशन में सत्याग्रह किया था। सत्याग्रह के एक सप्ताह के भीतर ट्रेन का सप्ताह में चार दिन संचालन शुरू कर दिया गया था। अब इसे नियमित करते हुए अत्याधुनिक एलएचबी कोच के रैक के साथ चलाने की घोषणा की गई है।

---

आरपीएफ की सख्ती से पटरी तक नहीं पहुंच पाए एनएसयूआइ कार्यकर्ता

जगदलपुर। रेलवे रिक्रुटमेंट बोर्ड (आरआरबी) की एनटीपीसी परीक्षा को लेकर बिहार व उत्तरप्रदेश में परीक्षार्थियों पर लाठीचार्ज के विरोध में शुक्रवार को भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन एनएसयूआइ के पदाधिकारियों ने स्टेशन पहुंचकर नारेबाजी की। दोपहर दो बजे करीब एक दर्जन पदाधिकारी संगठन का झंडा लेकर स्टेशन पहुंचे और प्लेटफार्म पर जाकर केंद्र सरकार, रेलवे बोर्ड और आरआरबी के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। जिस समय प्लेटफार्म पर इनके द्वारा प्रदर्शन किया जा रहा था उस समय एक नंबर प्लेटफार्म पर जगदलपुर-राउरकेला एक्सप्रेस रवाना होने के लिए खड़ी थी। काफी यात्री भी मौजूद थे।

प्रदर्शनकारी रेलपटरी पर जाने की कोशिश कर रहे थे लेकिन रेलवे सुरक्षा बल के जवानों से सख्ती बरतते हुए प्रदर्शनकारियों को स्टेशन से बाहर कर दिया। इसके कारण प्रदर्शन 15 मिनट से अधिक नहीं चला। एनएसयूआइ के पदाधिकारी अंकित सिंह व लोकेश चौधरी ने बताया कि केंद्र सरकार छात्र व युवा विरोधी नीति पर चल रही है। परीक्षा के तीन साल बाद तक परिणाम और नीतियां साफ नहीं की जाती हैं। युवाओं का भविष्य बर्बाद किया जा रहा है। एनएसयूआइ ऐसी नीतियों और बर्बरतापूर्ण कार्रवाई का विरोध जारी रखेगी। परीक्षार्थियों पर बलप्रयोग की निंदा की जानी चाहिए। प्रदर्शनकारियों में एनएसयूआई के आदित्य सिंह बिसेन, अरूण गुप्ता, विशाल खंबारी, नीलम कश्यप, करन बजाज, उस्मान रजा, विवेक राव आदि शामिल थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local