जगदलपुर। गोवर्धनमठ पुरी के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती अगले साल बस्तर आएंगे। फरवरी के पहले पखवाड़े में उनका प्रवास प्रस्तावित है। तारीख अभी तय नहीं हुई है। इधर सर्व हिंदू समाज ने शंकराचार्य के प्रवास को लेकर तैयारियां शुरू कर दी हैं।

शनिवार को दोपहर माहेश्वरी समाज भवन में सर्व हिंदू समाज के पदाधिकारियों की इस संबंध में बैठक हुई। बैठक में शंकराचार्य की विशाल धर्मसभा तथा शोभा यात्रा की रूपरेखा पर विचार किया गया। पिछले दिनों बस्तर से प्रतिनिधिमंडल शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती से मिलकर बस्तर आने का अनुरोध करने पुरी गया था। स्वामी निश्चलानंद सरस्वती गोवर्धन पीठ जगन्नााथ पुरी के 145वें शंकराचार्य हैं।

उन्होंने 31 वर्ष की आयु में संन्यास ग्रहण कर लिया था। अपने लंबे संन्यास जीवन के दौरान उन्होंने विभिन्ना विषयों पर 150 से ज्यादा किताबें लिखी हैं। उनके आगमन पर यहां शहर में भव्य शोभायात्रा, राष्ट्रोत्थान संगोष्ठी, धर्म सभा व प्रवचन तथा दीक्षा समारोह प्रस्तावित है।

आदित्य वाहिनी तथा आनंद वाहिनी के आह्वान पर माहेश्वरी समाज धर्मशाला में विभिन्ना क्षेत्रों हिंदू समाज के पदाधिकारियों की बैठक में समस्त अनुष्ठान को व्यापक रूप से पूरा करने तथा बस्तर में अध्यात्म का प्रचार करने, मतांतरण रोकने तथा हिंदुओं को अपनी सनातन विरासत से जोड़ने के उद्देश्य से शंकराचार्य के प्रस्तावित कार्यक्रम में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने बस्तरवासियों से आव्हान किया गया।

बैठक में सुझाव रखे गए कि शहर में जितनी भी धर्मशालाएं हैं उन्हें आगंतुकों के लिए सुरक्षित करने, शंकराचार्य की सभा में आने वाले लोगों के आवास तथा भोजन की उचित व्यवस्था करने, शहर तथा आसपास के गांव में जितनी भी गणेश और दुर्गा उत्सव समितियां हैं उन सभी को इस महा अभियान अनुष्ठान में आमंत्रित करने आदि का निर्णय लिया गया। बैठक में समस्त हिंदू संगठनों की भागीदारी तथा कार्य विभाजन जल्दी कर दिए जाने की बात कही गई। बैठक में 30 से अधिक हिंदू समाज के पदाधिकारी मौजूद थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close