फरसगांव। कोंडागांव जिले में आजादी के 7 दशक बाद भी ग्राम सिरसी कलार के ग्रामीण वर्षा में यातायात सुविधा से परेशान हैं। इस गांव में ग्रामीण बारिश के दिनों विकटता में जीवन जी रहे हैं।

ब्लाक फरसगांव के ग्राम पंचायत सिरसीकलार जो एनएच -30 पर स्थित लंजोड़ा से महज 08 किमी पश्चिम में बसा हुआ है। बतादें कि बीते चार दिन से गांव टापू में तब्दील हो गया। गांव के ग्रामीण गांव से बाहर या अंदर आना जाना नहीं कर पा रहे हैं और ना ही उन तक स्वास्थ्य सुविधाएं सहित अन्य आवश्यक सुविधाएं पहुंच पा रही हैं। हालांकि मंगलवार को बारिश रुक गई है लेकिन नदी नालों से पानी कम नहीं हुआ बारिश नहीं हुआ तो रात तक पानी कम होने की उम्मीद लगाई जा रही है।

उल्लेखनीय है कि कोंडागांव अंचल में बीते कई दिनों से लगातार बारिश हो रही है, जिससे नदी-नाले उफान पर हैं। अत्याधिक वर्षा के चलते जनजीवन प्रभावित हुआ है और कई इलाकों में बाढ की स्थिति निर्मित हुई है। कई गांव तो टापू बन गया हैं। उफनते बरसाती नाले की वजह से जिले के कई इलाकों में रहने वाले ग्रामीणों की चिंता बढ़ गई है। जिससे आम जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है।

ग्रामीणों का कहना है कि ग्राम पंचायत सिरसी कलार के सरपंच पति राम कुमार नेताम, पूर्व सरपंच जुने राम सोरी, ग्रामीण सरादू राम सोरी, रामविलास वैद्य, दिनेश बघेल, राकेश कुमार नाग, रामेश्वर बघेल, देवेंद्र बघेल, सहित अन्य ने कहा है कि कोंडागांव जिले के सबसे समस्या ग्रस्त इलाके में से सिरसी कलार एक है। यह गांव प्रतिवर्ष भारी बारिश में गांव टापू बन जाता है चारों ओर से नदी नालों से घिरे गांव के ग्रामीणों को प्रति वर्ष बारिश में चिंता बढता देती है।

इस गांव में बारिश के दिनों कई हादसों से कई लोगों को जान गंवानी पडती। लेकिन क्षेत्र के बड़े-बड़े नेता व उच्च अधिकारियों ने इसकी सुध तक नहीं ली। इस समस्या को लेकर ग्रामीणों ने कई बार राजनीतिक पार्टी के नेताओं व उच्च अधिकारियों से गुहार लगाई लेकिन आज तक इस समस्या का समाधान नहीं हो पाया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close