जगदलपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)।

नगरनार में निर्माणाधीन एनएमडीसी आयरन एंड स्टील प्लांट के डी-मर्जर एवं विनिवेशीकरण के विरोध में सुकमा जिला पंचायत अध्यक्ष कवासी हरीश का धरना सातवें दिन भी जारी रहा। धरना का सर्मथन करने जिले के विभिन्न क्षेत्रों से लगातार पंचायत पदाधिकारी नगरनार पहुंच रहे हैं। बुधवार को स्टील प्लांट प्रभावित ग्राम कस्तूरी के सरपंच राजेन्द्र बघेल और सर्व आदिवासी समाज के संभागीय अध्यक्ष प्रकाश ठाकुर, जनपद सदस्य मुन्नालाल कश्यप धरना में शामिल हुए। मंगलवार को जनपद पंचायत बकावंड की महिला अध्यक्ष पंचायत प्रतिनिधियों केे साथ धरना में शामिल होने आई थीं। धरना को संबोधित करते हुए सर्व आदिवासी समाज के अध्यक्ष ने कहा कि बस्तर में पांचवी अनूसूची और पेसा कानून लागू है। यहां आदिवासियों की जमीन पर बन रहे स्टील प्लांट को निजी क्षेत्र को नहीं सौंपा जा सकता। उन्होंने कहा कि सर्व आदिवासी समाज चाहता है कि स्टील प्लांट एनएमडीसी के पास रहे या फिर केंद्र सरकार के अधीन स्टील सेक्टर से जुड़ी सार्वजनिक क्षेत्र की कोई भी कंपनी एनएमडीसी के साथ मिलकर स्टील प्लांट का परिचालन करे, इस पर कोई आपत्ति नहीं होगी। कस्तूरी के सरपंच ने कहा कि न्याय पाने के लिए न्यायालय तक जाना पड़ेगा तो भी नहीं हिचकेंगे। आर्थिक नाकेबंदी करके आवाज बुलंद करना पड़ेगा तो पीछे नहीं हटेंगे। उधर संयुक्त मजदूर इस्पात संघ और स्टील श्रमिक यूनियन से जुड़े कर्मचारियों ने विनिवेशीकरण और डी-मर्जर के खिलाफ लगातार 16 वें दिन काम पर जाने से पहले मजदूर नेता महेन्द्र जॉन, संतराम सेठिया, जितेन्द्रनाथ, प्रभुलाल के नेतृत्व में स्टील प्लांट दफ्तर के सामने नारेबाजी जारी रखी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020