जगदलपुर। किरंदुल-कोत्तावालसा रेललाइन में शुक्रवार को जैपुर-क्षत्रीपुट स्टेशनों के बीच नई रेललाइन (रेललाइन दोहरीकरण कार्य) पर रेलगाड़ियों का आवागमन शुरू हो गया। कमिश्नर रेलवे सेफ्टी एस मित्रा ने नई रेललाइन के निरीक्षण के बाद रेलगाड़ियों के आवागमन की अनुमति दी।

मित्रा शुक्रवार को रेलवे के तकनीकी अधिकारियों के साथ नई रेललाइन के निरीक्षण के लिए सुबह आठ बजे से पहले की क्षत्रीपुट पहुंच गए थे। पहले उन्होंने मोटर ट्राली में अधिकारियों के साथ क्षत्रीपुट से जैपुर तक (नौ किलोमीटर) रेललाइन की बारीकी से जांच की। इसके बाद सीआरएस (कमिश्नर रेलवे सेफ्टी) स्पेशल ट्रेन दौड़ाई गई। सुबह आठ बजे से दोपहर दो बजे तक चली जांच प्रक्रिया में रेललाइन को रेल आवागमन के लिए फिट घोषित किया गया। जिसके बाद शाम चार बजे से दूसरी ट्रेनों के आवागमन के लिए भी नई लाइन को खोल दिया गया। एस मित्रा के साथ निरीक्षण दल में वाल्टेयर रेलमंडल के सहायक प्रबंधक सुधीर गुप्ता व कई अन्य अधिकारी शामिल थे। निरीक्षण दल में रेलमंडल प्रबंधक अनूप सतपथी को भी शामिल होना था लेकिन जावद तूफान को लेकर वाल्टेयर रेलमंडल में जारी अलर्ट को लेकर वह नहीं आ सके। मिली जानकारी के अनुसार जैपुर से कोरापुट के बीच मैदानी क्षेत्रों में रेललाइन दोहरीकरण कार्य की गति बढ़ाई जा रही है ताकि इस खंड में 2024 तक दोहरीकरण कार्य पूरा किया जा सके।

रेललाइन दोहरीकरण महत्वाकांक्षी परियोजना

किरंदुल-कोत्तावालसा रेललाइन (445 किलोमीटर सिंगल लाइन) का निर्माण जापान के तकनीकी सहयोग से 1966 में पूरा हुआ था। दंतेवाड़ा के बैलाडीला से विशाखापट्नम बंदरगाह तक लौह अयस्क की ढुलाई के लिए इस रेललाइन का निर्माण किया गया था। इस रेललाइन से लौह अयस्क के परिवहन से वाल्टेयर रेलमंडल की आर्थिक आय में सबसे अधिक हिस्सेदारी है। 2012-13 में इस रेललाइन के दोहरीकरण की करीब चार हजार करोड़ रुपये लागत वाली महत्वाकांक्षी परियोजना को मंजूरी मिली थी। अभी तक ओड़िशा के क्षत्रीपुट से बस्तर जिले के काकलूर स्टेशन और दंतेवाड़ा स्थित डाकपाल-गीदम स्टेशन तक मिलाकर करीब 140 किलोमीटर की रेललाइन का दोहरीकरण किया जा चुका है। नक्सल प्रभावित इलाका होने से दंतेवाड़ा जिले में किरंदुल सेक्शन में दोहरीकरण कार्य धीमी गति से चल रहा है वहीं ओड़िशा के कोरापुट सेक्शन में अधिकांश इलाका घाट सेक्शन वाला होने से वहां भी काम की गति धीमी है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local